नई दिल्ली: शहरी आपाधापी के बीच भारतीय संस्कृति को खुद में समेटे लोक कलाओं के आयोजन की बड़ी पहल दिल्ली में होने जा रही है. दिल्ली के 15 जनपथ रोड पर ववंडसर प्लेस स्थित डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में ‘रिवायत’ संस्था की ओर से लोककला का उत्सव होगा. 28 जुलाई को होने वाला ये आयोजन दिल्ली में इस तरह का पहला कार्यक्रम होगा, जिसकी शाम लोक कलाकारों, चिंतकों और संस्कृतिकर्मियों से सजी होगी. Also Read - यूपी में युवक की गोली मारकर हत्या, तबलीगी जमात पर लगाया था कोरोना वायरस फैलाने का आरोप

रिवायत द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में जाने माने फिल्मकार और संगीतकार मुजफ्फर अली मुख्य अतिथि होंगे. महमूद फ़ारूक़ी और डी शाहिदी की दास्तानगोई होगी. परिचर्चा के बाद मनोज मुंतशिर के साथ ही स्वानंद किरकिरे और नगमा शहर संवाद करेंगे. तीनों दिग्गज लोक कलाओं के बारे में बताएंगे. Also Read - कोरोना से जंग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जलाए दीये, तस्वीरें शेयर कर संस्कृत में लिखा ये संदेश

इसके बाद राजस्थानी लोक कलाकार मामे खान और उनकी टीम कार्यक्रम करेगी. बता दें कि मामे खान राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर राजस्थानी लोकगीतों से अपना जलवा बिखेर चुके हैं. यहां भी उनका कार्यक्रम यादगार होगा. उनकी गायकी का लोगों का इंतजार है. Also Read - कोरोना के खिलाफ जंग में एकजुट पूरा देश, पीएम की मां से लेकर कई हस्तियों ने घर के बाहर जलाए दीये, देखें तस्वीरें

जो संस्था ‘रिवायत’ दिल्ली में पहली बार इतना बड़ा और इस तरह का आयोजन करा रही है वह दरअसल लाइफफैक्ट्री मैनेजमेंट सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड की सांस्कृतिक पहल है. बताते हैं कि रिवायत को स्थापित ही इसीलिए किया गया ताकि भारतीय लोककलाओं और इसकी संस्कृति को बढ़ावा मिल सके. ये संस्था लोक कलाओं की धरोहर को सहेजना चाहती है. रिवायत हर उस शख्स को मंच दिला रही है जो लोककलाओं को ज़िंदा रखने का हुनर रखते हैं.