Misa-Bharti Also Read - US Capitol Lockdown: अमेरिकी संसद के बाहर कार ने पुलिस अधिकारियों को मारी टक्कर, यूएस कैपिटॉल में लगा लॉकडाउन

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती के दावों को अमेरिका की प्रतिष्ठित हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने खारिज कर दिया है। ज्ञात हो कि हाल ही में अपनी कुछ तस्वीरें जारी करते हुए मीसा ने दावा किया था कि उन्होंने अमेरिका की हार्वर्ड यूनिर्विसटी में ‘नए दौर में भारत की राजनीति और उसमें महिलाओं की भूमिका’ विषय पर व्याख्यान दिया था। मगर, इस मामले में यूनिर्विसटी ने स्पष्ट किया कि 7-8 मार्च को हुई इंडिया कांफ्रेंस में मीसा को बतौर वक्ता बुलाया ही नहीं गया था। उनकी तरफ से जारी तस्वीरें पूरी तरह से गलत छवि पेश कर रही हैं। Also Read - डोनाल्ड ट्रंप के समय के एच-1बी वीजा प्रतिबंध समाप्त हुए, भारतीय आईटी पेशेवरों को राहत

हार्वर्ड की ओर से यह बयान तब जारी किया गया जब ऑर्गनाइजिंग कमिटी ने पाया कि मीसा भारती ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर कुछ ऐसे फोटो अपलोड किए हैं, जो आपत्तिजनक हैं और गलत छवि पेश कर रहे हैं। Also Read - लालू यादव ने ट्वीट कर नीतीश कुमार पर बोला हमला, कहा-नीताश संघ की गोद में खेलने वाले प्यादे और छोटे रिचार्ज

हार्वर्ड की ओर से कहा गया कि ‘इंडिया कांफ्रेंस में मीसा भारत को बतौर दर्शक बुलाया गया था। उन्हें किसी पैनल के वक्ता के तौर पर नहीं बुलाया था। इसकी पुष्टि इस बात से की जा सकती है कि उन्होंने कांफ्रेंस में आने के लिए टिकट खरीदा था। उन्हें लेक्चर देने के लिए नहीं बुलाया गया था।

ऐसे में हार्वर्ड यूनिर्विसटी के इस खुलासे के बाद मीसा की काफी फजीहत हो रही है। वही बताया जा रहा है कि कांफ्रेंसखत्म होने के बाद मीसा मंच पर गर्इं और तस्वीरें खिंचवाई। इसके बाद ये तस्वीरें भारतीय अखबारों को यह कहकर जारी कर दी गई कि उन्होंने हार्वर्ड में लेक्चर दिया था।

बहरहाल इस मुद्दे और पूरे विवाद पर न तो आरजेडी अध्‍यक्ष लालू यादव की कोई प्रतिक्रिया आई है और न अमेरिका दौरे पर गई मीसा भारती की, लेकिन निश्चित रूप से इस विवाद के बाद मीसा के राजनतिक करियर पर प्रतिकूल असर पड़ेगा।

बवाल मचने पर हार्वर्ड ने इस कॉन्फ्रेंस के वक्ताओं की आधाकारिक लिस्ट भी जारी की है। लिस्ट के मुताबिक वक्ताओं में पूर्व आईपीएस अधिकारी किरन बेदी, सज्जन जिंदल, भारतीय गुणवत्ता परिषद के आदिल जैनुलभाई, वॉकहार्ट के हबील खोड़कीवाला, ऐक्टर राहुल बोस, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण, प्रफेसर तरुण खन्ना, पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन, अडिशनल सॉलीसीटर जनरल नीरज किशन कॉल, ब्लैकस्टोन इंडिया के अखिल गुप्ता, पूर्व राजदूत प्रदीप कुमार, अमेरिकी भारतीय उद्यमी गुरुराज ‘देश’ देशपांडे, अंबुजा सीमेंट के अजय कुमार, पार्था एस घोष ऐंड असोसिएट्स के एमडी पार्था घोष, बीजेपी नेता राम माधव और टाटा सन्स के आर. गोपालकृष्णन शामिल थे।