जयपुर. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई राबर्ट वाड्रा व उनकी मां मौरीन मंगलवार सुबह यहां प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचे. निदेशालय के अधिकारी राजस्थान के सीमावर्ती बीकानेर जिले में कथित जमीन घोटाले के संबंध में उनसे पूछताछ कर रहे हैं. कांग्रेस महासचिव और वाड्रा की पत्नी प्रियंका गांधी ईडी कार्यालय तक उन्हें छोड़ने आई थीं. कड़ी सुरक्षा के बीच वाड्रा, प्रियंका और मौरीन सुबह करीब साढे दस बजे एक ही वाहन से शहर के अंबेडकर सर्किल स्थित ईडी के कार्यालय पहुंचे। वाड्रा को वहां छोड़कर प्रियंका वापस लौट गईं.

ईडी कार्यालय की ओर जाने वाली सड़कों के किनारे के कुछ पोस्टर लगे थे जिन पर राहुल, प्रियंका और वाड्रा की तस्वीर के साथ ‘कट्टर सोच नहीं युवा जोश’ जैसे नारे लिखे हैं. हालांकि, कांग्रेस के स्थानीय पदाधिकारियों ने इन पोस्टरों के बारे में अनभिज्ञता जताई है. प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष अर्चना शर्मा ने कहा कि उन्हें इन पोस्टरों की जानकारी नहीं है. इन्हें पार्टी ने नहीं लगाया है. ईडी कार्यालय के बाहर मौजूद कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रियंका गांधी जिंदाबाद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारे लगाए.

‘प्रियंका गांधी वाड्रा की राजनीति में एंट्री से भरेगी कांग्रेस की खाली तिजोरी’

तीन बार पूछताछ कर चुकी है ईडी
वाड्रा जयपुर में ईडी के सामने पहली बार हाजिर हुए हैं. इससे पहले एजेंसी दिल्ली में उनसे लगातार तीन दिन (7-9) फरवरी पूछताछ कर चुकी है. ईडी ने वाड्रा से सात फरवरी गुरुवार को जहां साढ़े पांच घंटे पूछताछ की वहीं शुक्रवार को उनसे करीब नौ घंटे तक पूछताछ हुई थी. नौ फरवरी शनिवार को एजेंसी ने वाड्रा से करीब आठ घंटे पूछताछ की थी. एजेंसी वाड्रा के खिलाफ कथित धन शोधन और विदेशों में अवैध तरीके से संपत्ति खरीदने में उनकी कथित भूमिका के मामले की जांच कर रही है.

सहयोग की अपील की थी
राजस्थान उच्च न्यायालय ने वाड्रा और उनकी मां से कहा था कि वे एजेंसी को जांच में सहयोग करें. इसके बाद ही दोनों यहां ईडी कार्यालय में हाजिर हुए हैं. एजेंसी ने बीकानेर जमीन घोटाला मामले में वाड्रा को तीन बार सम्मन जारी किए, लेकिन वह पेश नहीं हुए. इसपर एजेंसी अदालत चली गयी. ईडी ने 2015 में इस संबंध बारे में एक मामला दर्ज किया था. वाड्रा और उनकी मां मौरीन कल सुबह यहां पहुंचे वहीं प्रियंका गांधी सोमवार रात विशेष विमान से यहां आईं.