नई दिल्ली: राफेल मामले में भाजपा के आरोपों को खारिज करते हुए कांग्रेस की शीर्ष नेता सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने बुधवार को सरकार पर “राजनीतिक विद्वेष से पीछे पड़ने’ का आरोप लगाया. वाड्रा ने कहा कि भाजपा जब भी मुश्किलों में फंसती है तो उनका नाम लेती है.Also Read - दिल्ली पुलिस ने रॉबर्ट वाड्रा की गाड़ी का काटा चालान, अचानक लगा दिया था ब्रेक...

Also Read - रॉबर्ट वाड्रा के घर पहुंची आयकर विभाग की टीम, दर्ज किया जा रहा बयान

वाड्रा ने एक बयान में कहा, ‘शुरुआत में मुझे हैरानी होती थी लेकिन अब यह पूरा तमाशा बन गया है कि भाजपा जब भी फंसती है तो मेरा नाम उछालने लगती है. चाहे वह रुपये में गिरावट हो, चाहे पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती कीमतें हों या फिर हाल ही में राफेल पर देश को बेचने को लेकर उनके बेनकाब होने का मामला हो, हर बार उन्होंने मेरा नाम लिया.’ Also Read - विदेशी संपत्ति मामले में रॉबर्ट वाड्रा का करीबी भारतीय उद्योगपति सीसी थंपी गिरफ्तार

मुलायम के ‘झटके’ से निराश नहीं हैं शिवपाल, लेकिन पोस्‍टर से हट गई नेताजी की तस्‍वीरें

उन्होंने कहा, ‘उनके पास सारी एजेंसियां हैं…मौजूदा सरकार और भाजपा से बेहतर कोई नहीं जानता कि वे पिछले चार साल से राजनीतिक विद्वेष से मेरे पीछे पड़ी है.’ वाड्रा ने कहा, ‘झूठ के पुलिंदे की आड़ में छिपने की बजाय उनको 56 इंच छाती के साथ साहस दिखाना चाहिए और देश को राफेल के बारे में सच बताना चाहिए. लोग एक ही बात सुन-सुन कर तंग आ चुके हैं.’

नीतीश के राज में देसी कट्टा हुआ पुराना, अब किराए पर मिलता है एके-47

गौरतलब है कि भाजपा ने आरोप लगाया है कि संप्रग सरकार वाड्रा के मित्र संजय भंडारी की कंपनी को बिचौलिए के तौर पर इस्‍तेमाल करना चाहती थी और जब यह नहीं हो सका तो कांग्रेस इस सौदे को खत्‍म करा कर बदला लेना चाहती है. इससे पहले रॉबर्ट वाड्रा पर हरियाणा में कांग्रेस सरकार की मदद से कम कीमत में महंगी जमीनें खरीदने का आरोप लगा था. इसको लेकर भाजपा उन्‍हें बार-बार निशाना बनाती रही है.