नई दिल्ली. भैरो यात्री रोपवे परियोजना का उद्घाटन आज सोमवार को हो गया. राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने इसका शुभारंभ किया. इस रोपवे से माता वैष्णोदेवी जाने वाले श्रद्धालुओं भवन से ऊपर भैरों बाबा का दर्शन करना आसान हो जाएगा. श्री माता वैष्णोदेवी श्राइन बोर्ड (एसएमवीडीएसबी) के सीईओ सिमरनदीप सिंह ने बताया है कि भवन-भैरो यात्री रोपवे परियोजना सोमवार से ही कार्य करना शुरू कर दिया है. जम्मू कश्मीर के रियासी जिले की त्रिकुटा पहाड़ी में गुफा मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए इसे आरंभ किया गया है.

इससे पहले इसका प्रायोगिक परिचालन सफल रहा. इसमें संचालन, भार, सुरक्षा प्रणाली और आपातकालीन प्रक्रिया का ख्याल रखा गया. राइट्स की देखरेख में दामोदर रोपवे कंस्ट्रक्शन कंपनी प्राइवेट लिमिटेड, कोलकाता और गरवेनता एजी, स्विट्जरलैंड साथ मिलकर इस परियोजना पर काम कर रही हैं. बताया जा रहा है कि इर रोपवे के उद्घाटन से तीन घंटे की यात्रा तीन मिनट में पूरी हो जाएगी.

स्विट्जरलैंड से किया गया है आयात
उन्होंने बताया कि रोपवे के उपकरण और केबिन स्विट्जरलैंड से आयात किए गए हैं. इसकी प्रणाली को पूरी तरह सुरक्षा नियमों के अनुरूप बनाया गया है. अधिकारियों ने बताया कि रोपवे की प्रति घंटे 800 यात्रियों को ले जाने की क्षमता होगी. इसके शुरू होने के बाद भैरोंजी मंदिर के दर्शन करना श्रद्धालुओं के लिए आसान हो जाएगा.

बुजुर्गों को मिलेगा फायदा
यह सुविधा विशेष तौर बुजुर्ग लोगों के लिए लाभप्रद रहेगी जिन्हें 6,600 फुट की ऊंचाई पर भैरोंजी जाने में कठिनाई होती थी. इसका परीक्षण ट्रायल 26 नवंबर से शुरू किया गया था जो पूरा हो चुका है.