बेंगलुरु: बेंगलुरु के राजभवन से विंटेज कार रैली (Vintage Car Rally in Bengluru) का आगाज हो चुका है. यह सभी कारें ‘रॉयल क्लासिक डासरा ड्राइव’ में भाग लेने के लिए मैसूरु की ओर बढ़ रही हैं. आपको बता दें कि इस कार रैली में सन 1937 की सनबीन टैबलोट कार भी भाग लेगी. इस कार को भारत में लॉर्ड माउंटबेटन ने लाया था. यह भारत में पहली कार थी जिस पर माउंटबेटन सवारी किया करते थे. इस कार को भी विंटेज कार रैली के दौरान प्रदर्शित किया जाएगा.

यह कार फिलहाल सबीना प्रकाश के पास है. इन वाहनों को प्रदर्शन के लिए 29 सितंबर यानी आज के दिन बेंगलुरु से लाया जाएगा. लॉर्ड माउंटबेटन की कार के साथ अन्य 49 रॉयल गाड़ियां तीन दिन तक इस आयोजन का हिस्सा बनेंगी.

इस कार्यक्रम का आयोजन ‘फेडरेशन ऑफ हिस्टोरिक व्हीकल्स ऑफ इंडिया (FHVI)’ ने किया है. सभी कारें अगले तीन दिनों तक कार्यक्रम के दौरान देखने को मिलेंगी. इस कार्यक्रम में 50 साल से अधिक पुरानी कारों और बाइकों को शामिल किया जाएगा. आज सुबह 9 बजे बेंगलुरु स्थित राजभवन से राज्यपाल वजुभाई वाला ने इस कार्यक्रम की शुरुआत की.

यह रैली कल शाम मैसूर शहर में पहुंचेगी और यहां के ऐतिहासिक स्मारकों और जगहों से होकर गुजरेगी. इसके बाद इन सभी वाहनों को मैसूर पैलेस के सामने पार्क किया जाएगा. शाही परिवारों, भारत और श्रीलंका के व्यापारिक घरानों के जाने-माने प्रमुख उद्योगपति इस रैली का हिस्सा होंगे.