ठाणे (महाराष्ट्र). मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी की जीत से देश की इस सबसे पुरानी पार्टी के प्रति लोगों के विचार बदलने शुरू हो गए हैं. चुनावी जीत पर जहां भाजपा विरोधी दल कांग्रेस को बधाई दे रहे हैं, वहीं वे पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की राजनीति में बढ़ती छवि पर भी टिप्पणी कर रहे हैं. विरोधी दलों के साथ-साथ केंद्र में आरूढ़ भाजपानीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के भी नेता राहुल की नेतृत्व क्षमता की तारीफ कर रहे हैं. इसी क्रम में केंद्र सरकार में मंत्री और आरपीआई नेता रामदास अठावले (Ramdas Athawale) ने रविवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को बधाई दी. तीन हिंदी भाषी राज्यों में चुनावों में कांग्रेस की जीत की पृष्ठभूमि में केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले ने रविवार को संकेत दिए कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी एक परिपक्व नेता बन गए हैं.

अठावले की पार्टी आरपीआई (ए) राजग का एक घटक दल है. अठावले ने थाने जिले के कल्याण में पत्रकारों के साथ बातचीत में राहुल गांधी के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले विशेषणों पर भी टिप्पणी की. अठावले ने कहा, ‘‘राहुल गांधी ने तीन राज्यों में एक अच्छी जीत हासिल की है. वह अब ‘पप्पू’ नहीं है लेकिन ‘पप्पा’ बन गए हैं.’’ उन्होंने यह भी कहा कि राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में भाजपा की चुनावी हार का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कुछ लेना देना नहीं है. अठावले ने कहा,‘‘चुनावों में हार भाजपा की है, न कि नरेन्द्र मोदी की.’’

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि शिवसेना को भाजपा के साथ अपना गठबंधन बनाए रखना चाहिए. ‘‘यदि यह गठबंधन जारी नहीं रहा तो शिवसेना का नुकसान होगा.’’ केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री अठावले ने कहा, ‘‘मैं शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे से सेना सुप्रीमो बाल ठाकरे के सपनों को पूरा करने की अपील करता हूं. उसे (सेना) अकेले चुनाव लड़ने के बारे में नहीं सोचना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस को इस धारणा में नहीं रहना चाहिए कि केवल राफेल सौदे को उठाकर वह 2019 का चुनाव जीत लेगी.

(इनपुट – एजेंसी)