रतलाम: मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता की हत्या के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है. पुलिस ने जांच में पाया है कि संघ कार्यकर्ता हिम्मत पाटीदार ने बीमा की रकम पाने के लिए अपनी हत्या की साजिश रची और मजदूर मदन मालवीय की हत्या कर चेहरे को बुरी तरह जला दिया, ताकि आसानी से पहचान न हो सके. एसपी गौरव तिवारी ने सोमवार को बताया, “23 जनवरी को बिलपांक थाने के कमेड़ गांव के खेत में एक युवक की लाश मिली थी, जिसे हिम्मत पाटीदार का शव बताया गया था. हिम्मत के परिजनों ने भी शिनाख्त की. बाद में पुलिस ने मामले की जांच की और जो तथ्य सामने आए उससे हत्या का प्रकरण ही संदिग्ध हो गया.”

मध्य प्रदेश: दो BJP नेताओं की हत्या के बाद अब RSS कार्यकर्ता का शव मिला, कांग्रेस पर साजिश का आरोप

बता दें 23 जनवरी को बिलपांक थाना क्षेत्र के कमेड़ गांव के खेत में एक शव मिला, जिसे संघ कार्यकर्ता हिम्मत का बताया गया था. इस पर भाजपा ने कांग्रेस सरकार पर जमकर हमले किए थे. इससे पहले मंदसौर में भाजपा के नगर पालिक अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार व बड़वानी में भाजपा नेता मनोज ठाकरे की हत्या हो चुकी है. इसी तरह उज्जैन में भाजपा नेता की भाभी की भी हत्या हुई थी.

एसपी के मुताबिक, “जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि हिम्मत के खेत पर मदन मालवीय नामक व्यक्ति दो साल से मजदूरी करता था, जो 22 जनवरी की रात से लापता है. जब शव से लगभग 500 मीटर दूर मिले जूते व कपड़ों को मदन के पिता को दिखाया गया तो उन्होंने उसकी पहचान की, इससे मामला और गंभीर हो गया.”

एसपी तिवारी ने बताया, “जब मामला संदिग्ध हुआ तो पुलिस ने मृतक के कपड़े और अन्य सामग्री पोस्टमार्टम के बाद सुरक्षित रखी गई थी, उसे सागर के फॉरेंसिक साइंस लेब भेजा गया, जांच में पुष्टि हुई है कि शव हिम्मत का न होकर मदन का था, फिलहाल हिम्मत फरार है, उसकी तलाश जारी है.”

पुलिस अधीक्षक तिवारी ने कहा, “जांच में सामने आया है कि हिम्मत पर बहुत कर्ज था और उसने दिसंबर 2018 में अपना बीमा करा रखा था. लिहाजा वह अपनी हत्या की साजिश रचकर परिवार वालों को बीमा की रकम दिलाना चाहता था.”