आनंदपुर साहिब: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ कॉन्‍स्टेबल कुलविंदर सिंह के माता पिता से रविवार को उनके गांव में मुलाकात की. मुख्यमंत्री ने राउली गांव में शहीद के पिता दर्शन सिंह और उनकी पत्नी के प्रति अपनी सहानुभूति जताई और उन्हें 10,000 रुपए की विशेष मासिक पेंशन देने की घोषणा की. दरअसल, उनकी और कोई संतान नहीं है. वहीं, शहीद कॉन्‍स्टेबल अविवाहित थे. सीएम ने एक स्थानीय स्कूल और उनके गांव को जोड़ने वाली एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखने की घोषणा की. मुख्यमंत्री ने राउली गांव में दर्शन सिंह और उनकी पत्नी के प्रति अपनी सहानुभूति जताई और उन्हें 10,000 रुपए की विशेष मासिक पेंशन देने की घोषणा की. Also Read - अपने निर्वाचन क्षेत्र में सबसे ज्यादा बच्चों वाले माता-पिता को 1 लाख रुपये देंगे मंत्री, बताई ये वजह

Also Read - Jammu & Kashmir Weekend curfew: जम्मू-कश्मीर के आठ जिलों में वीकेंड कोविड कर्फ्यू हटाया गया, रात में जारी रहेंगी पाबंदियां

पुलवामा हमला: अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस लेने के बाद हुरियत का आया ये बयान Also Read - जम्मू-कश्मीर की सभी राजनीतिक पार्टियों के साथ 24 जून को बैठक करेंगे पीएम मोदी, फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को भेजा निमंत्रण

पुलवामा हमला: जश्न का संदेश वायरल कर रही थीं कश्मीर की छात्राएं, यूनिवर्सिटी से निकाली गईं

एक अधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक इसके अलावा सात लाख रुपए की अनुग्रह राशि और पांच लाख रुपए नकद (भूमि के एवज में, जिसका परिवार हकदाद है) भी दिए जाएंगे. इसमें कहा गया है कि पेंशन रक्षा सेवा कल्याण विभाग द्वारा दी जाएगी.

मुख्यमंत्री ने राष्ट्र की सेवा में अपने प्राणों की आहूति देने वाले जवानों के परिवारों को सरकार की ओर से पूरी सहायता देने की बात कही. इससे पहले रविवार को मोहाली में सिंह ने यह स्पष्ट कर दिया कि पंजाब में सभी कश्मीरी छात्रों को उनकी सरकार पूरी सुरक्षा देगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने कुछ कश्मीरी छात्रों को निशाना बनाए जाने की खबरों के मद्देनजर पुलिस को आवश्यक निर्देश जारी किए हैं. उन्होंने कहा, ”हम उन ताकतों के हाथों इस्तेमाल नहीं होंगे जो धर्म के नाम पर हमें बांटने की कोशिश कर रहे हैं.”