Also Read - some reports coming in from certain parts of Afghanistan and northern parts where I have seen photos : Manohar Parrikar | पर्रिकर का अलर्ट, पाकिस्तान कर रहा है केमिकल हथियारों से हमला

पणजी, 30 नवंबर | माइनस्वीपर युद्ध पोत से संबंधित एक दक्षिण कोरियाई कंपनी के साथ हुए एक समझौते को रद्द करते हुए रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने रविवार को कहा कि उनके मंत्रालय ने समझौते के समय किए गए वादे के तहत कंपनी का तीन करोड़ रुपये का ईमानदारी बांड जब्त कर लिया है। पर्रिकर ने यहां संवाददाताओं से कहा, “चूंकि एजेंटों को नामित किया गया है, इसलिए निविदा रद्द कर दी गई है। कंपनी द्वारा ईमानदारी बांड के तहत जमा किए गए तीन करोड़ रुपये जब्त कर लिए गए हैं।” Also Read - America's defence minister mattis calls Parrikar, says India-US ties need to grow | अमेरिका के नए रक्षामंत्री मैटिस ने मनोहर पर्रिकर को किया फोन, इन बिंदुओं पर हुई चर्चा

कंगनम कॉरपोरेशन ने रक्षा मंत्रालय के साथ 2,700 करोड़ रुपये में माइन काउंटर-मेजर्स वेसल (एमसीएमडब्ल्यू) की आपूर्ति करने और गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (जीएसएल) को प्रौद्योगिकी हस्तांतरण करने के लिए एक समझौता किया था। कंपनी ने इस सौदे को हासिल करने के लिए एजेंटों का उपयोग किया था, जिसके कारण सौदा रद्द कर दिया गया। Also Read - CM must have a young heart: Manohar Parrikar | मुख्यमंत्री को दिल से युवा होना चाहिए, उम्र भले कुछ ज्यादा हो : पर्रिकर

इस महीने के शुरू में पर्रिकर के रक्षा मंत्री बनने के बाद यह उनका पहला बड़ा कदम है। पर्रिकर ने कहा, “सभी आठ माइनस्वीपर का निर्माण करने का ठेका जीएसएल को दिया जाएगा। इसी दिशा में विचार चल रहा है।” उन्होंने कहा, “पूर्ण स्वदेशी रास्ते पर चलने के लिए हमारे पास प्रौद्योगिकी नहीं है। अत्याधुनिक पहलुओं और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण क्षेत्र में साझेदारी की जाएगी।”