लखनऊ: आपने कई किस्सों में सुना होगा कि छात्रों ने सवाल के जबाव में हनुमान चालीसा लिख दिया, तो कुछ फिल्म की कहानी ही लिख देते हैं. लेकिन यूपी में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें छात्रों ने पास होने के लिए कॉपियों में 50 और 100 के नोट रख दिए. Also Read - बाहुबली MLA विजय मिश्रा की MLC पत्‍नी और बेटे की संपत्ति कुर्की आदेश को चुनौती वाली याचिका खारिज

जी हां, यह मामला दरअसल, यूपी के फिरोजाबाद के तिलक इंटर कॉलेज का है. 12वीं बोर्ड की परीक्षा की कॉपियों की जांच के दौरान कई कॉपियों से 50 और 100 के नोट निकले. छात्र यहीं नहीं रुके. जब उन्हें लगा कि उन्होंने पास होने लायक भी सवालों के हल नहीं किए हैं तो कॉपी जांच करने वाले शिक्षकों के नाम इमोशनल लेटर भी लिख डाला. एक छात्र ने पेपर में 100 का नोट रखा और एक भावनात्मक पत्र में लिखा कि उसकी तबियत ठीक नहीं है, जिसके कारण वह परीक्षा की तैयारी नहीं कर सका. यही नहीं, विद्यार्थी ने शिक्षक को अपनी गरीबी का भी हवाला दे डाला. उसने खत में लिखा कि वह बहुत गरीब है. इसलिए गुरुजी पास करा दें. Also Read - आत्मनिर्भर भारत: कानपुर के दो लड़कों का कमाल, बनाए स्ट्रीट लाइट्स के लिए स्मार्ट स्विच, खुद होंगे On-Off

शिक्षकों के अनुसार ऐसा करके छात्र शिक्षकों को लालच देने की कोशिश कर रहे हैं. बता दें कि योगी सरकार राज्य में शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने में लगी है. लिहाजा नकल को लेकर राज्‍य सरकार की सख्‍ती के चलते 10 लाख से ज्‍यादा छात्र-छात्राओं ने इस बार परीक्षा छोड़ दी. लेकिन जो छात्र परीक्षा में शामिल हुए उनमें भी कई ऐसे थे, जिनके लिए चोरी के बिना पास होना मुश्किल था. Also Read - शादीशुदा शख्स का हुआ अपहरण, पुलिस ने ढूंढ़ा तो प्रेमिका संग कर रहा था...

परीक्षा में छात्रों के शामिल ना होने और कॉपी के बीच 50 और 100 रुपये के नोट रखने की घटना से योगी सरकार चिंतित है. यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि छात्रों का परीक्षा में शामिल ना होना चिंता का विषय है. इसका अर्थ यह है कि छात्र परीक्षा के लिए तैयार ही नहीं हैं. लिहाजा अब कक्षा में शिक्षकों उपस्थिति सुनिश्चित की जाएगी, ताकि कोर्स पूरा हो सके.