नई दिल्ली: सरसंघचालक मोहन भागवत समेत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों ने माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर अपने अकाउंट बनाए हैं. ये नेता ट्विटर पर मई व जून के बीच आए हैं. संघ में सूत्रों ने बताया कि पदाधिकारियों के ट्विटर का प्रयोग करने की संभावना नहीं है, क्योंकि इक्रोब्लॉगिंग साइट वह मंच नहीं है, जिसके माध्यम से संघ लोगों से साथ संपर्क करना पसंद करेगा.

भागवत, संघ के सरकार्यवाह सुरेश ‘भैयाजी’ जोशी, संघ के तीन सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी, कृष्ण गोपाल एवं वी भगैया, संघ के प्रचार प्रमुख अरुण कुमार और एक अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी अनिरुद्ध देशपांडे ने ट्विटर अकाउंट खोले हैं.

भागवत का सत्यापित ट्विटर हैंडल @DrMohanBhagwat है. वह केवल आठ अकाउंट फॉलो कर रहे हैं, जिनमें आरएसएस का आधिकारिक अकाउंट और शीर्ष सात पदाधिकारियों के अकाउंट शामिल हैं. होसबोले को छोड़ कर अभी किसी ने ट्वीट नहीं किया है. वे एक दूसरे को और संघ के आधिकारिक अकाउंट को फॉलो कर रहे हैं.

संघ के एक अन्य सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले पिछले कुछ समय से ट्विटर पर हैं, लेकिन उनका अकाउंट भी हाल में सत्यापित हुआ है. संघ के सूत्रों ने कहा, संघ पदाधिकारियों के पैरोडी अकाउंट के माध्यम से फैलाई जा रही झूठी खबरों को रोकने के लिए ये अकाउंट बनाए गए हैं, लेकिन उनकी ओर से इनका इस्तेमाल किए जाने की संभावना नहीं है.

हाल में अपना ट्विटर अकाउंट बनाने वाले एक पदाधिकारी ने कहा कि संघ लोगों से ट्विटर के माध्यम से बात नहीं करना चाहेगा. हमारे प्रचारक लोगों से हमेशा संपर्क में रहते हैं.

अभी तक आरएसएस के आधिकारिक अकाउंट से ही संगठन की विज्ञप्तियां और उस संबंधी जानकारी साझा की जाती थी. संघ के आधिकारिक अकाउंट के 13 लाख फॉलोवर्स हैं.