नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के वरिष्ठ नेताओं ने अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय (SUPREME COURT) के संभावित निर्णय से कुछ दिन पहले शुक्रवार को भाजपा के कुछ वरिष्ठ मुस्लिम नेताओं एवं मुसलमान समाज के कई बुद्धिजीवियों के साथ बैठक की और उन्हें निकट भविष्य में शांतिपूर्ण माहौल बनाए रखने में सहयोग करने की अपील की. सूत्रों के मुताबिक, यहां करीब चार घंटे चली बैठक में इस बात पर जोर दिया गया कि ऐसा माहौल सुनिश्चित करना है कि अयोध्या पर आने वाले फैसले को सभी स्वीकार करें, और देश के किसी भी हिस्से में किसी तरह से शांति भंग नहीं हो.

बैठक में RSS के वरिष्ठ पदाधिकारी कृष्ण गोपाल और इंद्रेश कुमार, केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन, जफर इस्लाम तथा शाजिया इल्मी शामिल थीं. मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय के कुलाधिपति फिरोज बख्त अहमद और कुछ अन्य मुस्लिम बुद्धिजीवी भी मौजूद थे. बैठक के बाद फिरोज बख्त अहमद ने कहा, ‘मुस्लिम समुदाय की तरफ से कई बार यह कहा गया है कि जो भी फैसला आएगा उसे माना जाए. फिर भी कहीं कुछ गलत नहीं हो, इसका प्रयास किया जा रहा है.’ उन्होंने कहा, ‘ मुस्लिम समुदाय के बुद्धिजीवियों से अपील की गई है कि वह ऐसा माहौल बनाने में मदद करें जिसमें सभी लोग अदालत के फैसले को मानें.’ दअरसल, RSS ने पिछले दिनों कहा था कि अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले को खुले मन से स्वीकार करना चाहिए.

हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्टर ने की घोषणा, पराली जलाने की सूचना देने वाले को मिलेंगे 1000 रुपए इनाम

संगठन ने ट्वीट कर कहा था, ‘’आगामी दिनों में श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के वाद पर सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय आने की संभावना है. निर्णय जो भी आए उसे सभी को खुले मन से स्वीकार करना चाहिए. निर्णय के पश्चात देश भर में वातावरण सौहार्दपूर्ण रहे.’ उच्चतम न्यायालय में अयोध्या मामले पर प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पांच न्यायधीशों की पीठ ने 40 दिन तक लगातार सुनवाई करने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया. यह फैसला अगले कुछ दिनों के भीतर सुनाए जाने की संभावना है. इस पीठ में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर भी शामिल हैं.