नई दिल्ली: संघ परिवार देश भर में जरूरतमंदों तक भोजन और राहत सामग्री पहुंचा रही है. इसके साथ ही अब संघ ने देश की किल्लत वाले अस्पतालों में पीपीई किट, मॉस्क और सैनिटाइजर भेजना भी शुरू कर दिया है. राजधानी दिल्ली में यह काम विश्व हिन्दू परिषद कर रही है. राजधानी दिल्ली में विश्व हिंदू परिषद दिल्ली का अभियान 20 मई से चल रहा है. विहिप की तरफ से अब तक दिल्ली में 2 हजार पीपीई किट दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में बांटे जा चुके हैं. Also Read - दिल्ली में 22000 के पार पहुंचे कोरोना वायरस के मामले, अब तक 556 की मौत

विहिप के दिल्ली प्रांत के कार्यध्यक्ष वागीश इस्सर ने बताया, “स्वामी दयानंद अस्पताल, दिलशाद गार्डन में 400 पीपीई किट और 100 सैनिटाइजर बांटे गए. इस से पूर्व 500 किट राममनोहर लोहिया अस्पताल और 400 किट हिंदूराव अस्पताल में डॉक्टरों व अन्य स्टाफ को निशुल्क भेंट किए गए. 27 अप्रैल को भी विहिप ने कस्तूरबा गांधी अस्पताल के लिए 250 पीपीई किट उपलब्ध कराए.” उधर विहिप ने कहा है कि अलग-अलग मैटरनिटी केंद्रों को भी 100 किट दिए गए हैं. Also Read - अगस्त-सितंबर में टीम इंडिया का कैंप लगाने के बारे में सोच रही है बीसीसीआई

इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ीं सेवा भारती ने जानकारी दी है कि 25 अप्रैल तक दिल्ली में कुल 3,31,359 सुरक्षा उपकरणों को बांटा गया है, जिनमें पीपीई किट, मॉस्क, सैनिटाइजर आदि शामिल हैं. साथ ही सेवा भारती प्रतिदिन 800 घरों में बना हुआ मॉस्क लोगों के बीच बांट रही है. इसके अलावा सेवा भारती, दिल्ली की तरफ से 1,39,073 राशन किट और 33,23,975 भोजन के पैकेट भी दिल्ली में वितरित किये गये हैं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिल्ली प्रांत के प्रचार प्रमुख रितेश कुमार अग्रवाल ने बताया, “अब तक कुल मिलाकर 13,89,124 जरूरतमंद लोगों तक सहायता पहुंचाया जा चुका है और इस काम में सिर्फ दिल्ली में 11,227 कार्यकर्ता लगाए गए हैं.” Also Read - अमेरिका के बायोटेक कंपनी का दावा, कोरोना के मरीजों पर असरदार हो रहा है यह दवा

इसके अलावा संघ दिल्ली में प्रतिदिन गोवंश को चारा पहुंचाने का काम कर रही है. बच्चों को दूध, सेक्स वर्कर और किन्नर समाज के लोगों को भी मदद पहुंचाने का काम कर रही है. इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने दिल्ली में युवाओं को कोविड-19 से संबंधित प्रशिक्षण का काम भी शुरू किया है, जिससे जरूरत पड़ने पर ये स्वयं सेवक सराकर की मदद के लिए आगे आ सकें.