नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने भी पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक जताया है. आरएसएस ने उन्हें अपना मार्गदर्शक बताते हुए निधन को संगठन के लिए अपूरणीय क्षति बताया है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और सरकार्यवाहक सुरेश भय्याजी जोशी के हवाले से जारी बयान में कहा गया है कि मुखर्जी का जाना संघ के लिए एक अपूरणीय क्षति है. Also Read - आरएसएस मुख्यालय में 9 सीनियर स्वयंसेवक कोरोना वायरस के टेस्‍ट में पॉजिटिव निकले

संघ ने कहा, कुशल प्रशासक, राष्ट्र-हित सर्वोपरि का भाव जीवन में रख, राजनैतिक अस्पृश्यता से परे व सभी दलों में समान रूप से सम्मानित, मितभाषी, लोकप्रिय पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आज अपनी जीवन यात्रा पूर्ण कर परम तत्व में विलीन हो गए. Also Read - 70वां बर्थ डे: पीएम नरेंद्र मोदी की जिंदगी से जुड़े ये हैं फैक्‍ट्स और अहम घटनाएं

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा, भारत के राजनैतिक-सामाजिक जीवन में उपजी इस शून्यता को भरना आसान नहीं होगा. संघ के प्रति उनके प्रेम और सद्भाव के चलते हमारे लिए तो वे एक मार्दर्शक थे. उनका जाना संघ के लिए एक अपूरणीय क्षति है. सभी परिवारजनों को गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए प्रभु से प्रार्थना है कि वे अपने श्री चरणों में स्थान दें. उल्लेखनीय है कि देश के 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने नई दिल्ली में अंतिम सांस ली. वह लम्बे समय से बीमार थे. यहां के सेना के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था. Also Read - ममता सरकार ने हिंदू पुरोहितों के लिए 1000 रु. महीना देने की घोषणा की, RSS ने कहा-हिंदुओं का माखौल