नई दिल्ली: कांग्रेस ने लोकसभा और विधानसभाओं में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण देने की दिशा में कदम नहीं बढ़ाने के लिए ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आरएसएस वाली सोच’ को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि ‘राहुल गांधी के संकल्प’ से यह सपना पूरा होगा. पार्टी ने देश की पंचायती राज व्यवस्था में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के योगदान की तारीफ भी की. अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष और पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुष्मिता देव ने कहा कि राजीव गांधी जी के संकल्प का नतीजा है कि आज पंचायती राज में 13 लाख से अधिक महिलाओं की भागीदारी है.

पंचायती राज दिवस के मौके पर उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि ‘प्रधानमंत्री की आरएसएस वाली सोच’ महिला आरक्षण के रास्ते में रुकावट पैदा कर रही है. सुष्मिता ने ट्वीट कर कहा, ‘राहुल गांधी के संकल्प से लोकसभा और विधानसभाओं में महिलाओं के आरक्षण का सपना पूरा होगा. गौरतलब है कि लोकसभा और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए 33 फीसदी के आरक्षण का विषय पिछले कई वर्षों से अटका हुआ है.

पंचायती राज दिवस के मौके पर कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘महात्मा गांधी व विनोबा भावे जी के “ग्राम स्वराज” से प्रेरणा लेकर राजीव गांधी जी के प्रयासों से कांग्रेस ने देश में 73वां संविधान संशोधन अधिनियम लागू किया, जिसके तहत पंचायतीराज को संस्थागत स्वरूप मिला और जमीनी स्तर पर लोकतंत्र मजबूत हुआ.पंचायतीराज दिवस के अवसर पर शुभकामनाएं. कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा, ‘पंचायती राज हमारे लोकतंत्र की धुरी है . इसे आगे और मजबूत बनाने की जरूरत है.