केरल. सबरीमाला मंदिर में घुसने का दावा करने वाली महिला कनक दुर्गा बुधवार को अपने घर वापस पहुंच गई. वह उत्तरी केरल के मल्लपुरम की रहने वाली है. बता दें कि मंदिर में घुसने की वजह से उसके ससुराल वालो ने उसे घर से निकाल दिया था. इसके बाद महिला कोर्ट पहुंची और कोर्ट के निर्देश के बाद वह अपने घर वापस पहुंच गई है. Also Read - सीएए को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सबरीमला प्रकरण के बाद न्यायालय करेगा सुनवाई

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए दुर्गा ने कहा, कोर्ट का आदेश मिला है. अब मैं अपने घर में घुस सकती हूं. मैं खुश हूं और ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहती हूं. अपनी सास के बारे में बात करते हुए उसने कहा, उनके साथ रहने में मुझे कोई दिक्कत नहीं है. लेकिन वे मेरे साथ नहीं रहना चाहती हैं. हालांकि, उन्हें उम्मीद है कि सबकुछ जल्द ही ठीक हो जाएगा. Also Read - भाजपा ने सबरीमाला मामले में की टिप्पणी, कहा- केरल सरकार कानून एवं व्यवस्था सुनिश्चित करे

बता दें कि कनक दुर्गा ने जिले के अधिकारियों के साथ कोर्ट में अपील किया था. उनका कहना था कि उन्हें उनके ससुराल वालों ने घर में घुसने की एंट्री नहीं दी. उनका ये भी कहना है कि मंदिर में घुसने की वजह से उनकी सास ने उनपर हमला भी किया. दूसरी तरफ उनकी सास ने भी उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत की थी.

28 सितंबर 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 साल की महिलाओं की एंट्री से बैन हटा लिया था. इसके लगभग 4 महीने बाद बिंदू अमिनी और कनक दुर्गा नाम की दो महिलाएं अयप्पा के दर्शन के लिए मंदिर में पहुंच गईं थीं.