कोच्चि: भगवान अयप्पा स्वामी के दर्शन के लिए सबरीमाला जा रही संघ परिवार की वरिष्ठ नेता की गिरफ्तारी के विरोध में दक्षिणपंथी हिन्दू संगठनों ने शनिवार को केरल में सुबह से शाम तक हड़ताल का आह्वान किया है. Also Read - ट्रस्ट के नए अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास बोले- हिंदू परिषद के मॉडल पर ही होगा राम मंदिर का निर्माण

देर रात हुई गिरफ्तारी
विश्व हिन्दू परिषद के अध्यक्ष एस जे आर कुमार ने आरोप लगाया कि हिन्दू एक्यावेदी प्रदेश अध्यक्ष के पी शशिकला को पुलिस ने सबरीमला के निकट माराकोट्टाम से शुक्रवार देर रात करीब ढ़ाई बजे गिरफ्तार किया. विश्व हिन्दू परिषद के अध्यक्ष कुमार ने मीडिया को बताया कि वह भगवान की पूजा करने के लिए पूजन सामग्री लेकर पहाड़ी पर चढ़ रही थीं, उसी दौरान उन्हें गिरफ्तार किया गया. कुछ अन्य कार्यकर्ताओं को भी एहतियातन हिरासत में लिया गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि केरल सरकार सबरीमला मंदिर को नष्ट करना चाहती है. हालांकि आज कपाट खुलने के बाद श्रद्धालुओं ने अयप्पा स्वामी के दर्शनों के लिए फिर से चढ़ाई शुरू कर दी है.

सबरीमाला में महिलाओं एक तरफ राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन कराने का प्रयास कर रही है, तो दूसरी ओर हिंदूवादी संगठनों ने परंपरा की दुहाई देते हुए महिलाओं से मंदिर में प्रवेश नहीं करने का आग्रह किया है. सबरीमाला के पुजारी परिवार के एक वरिष्ठ सदस्य ने 10 से 50 साल आयुवर्ग की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश पर रोक की परंपरा का सम्मान करने व महिलाओं से अयप्पा के मंदिर में न जाने का आग्रह किया. महिलाओं के प्रवेश पर रोक इसलिए है कि माना जाता है कि भगवान अयप्पा ‘ब्रह्मचारी’ थे.

हवाई अड्डे से नहीं निकल पाईं तृप्ति देसाई, कहा पुलिस ने वापस लौटने को बोला

विहिप नेता ने कहा कि हड़ताल के दौरान जरूरी सुविधाओं और अयप्पा श्रद्धालुओं के वाहनों को नहीं रोका जाएगा. उच्चतम न्यायालय द्वारा अयप्पा स्वामी मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दिए जाने के बाद मंदिर तीसरी बार खुला है. शनिवार से शुरू हो रही दो महीने लंबी तीर्थ यात्रा के लिए मंदिर शुक्रवार को खुला. यहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. 41 दिनों तक चलने वाला मंडलम उत्सव मंडला पूजा के बाद 27 दिसंबर को संपन्न होगा जब मंदिर को ‘अथाझापूजा’ के बाद शाम को बंद कर दिया जाएगा. यह 30 दिसंबर को मकराविलक्कू उत्सव पर फिर से खुलेगा. मकराविलक्कू उत्सव 14 जनवरी को मनाया जाएगा जिसके बाद मंदिर 20 जनवरी को बंद हो जाएगा. (इनपुट एजेंसी)