निलक्कल: केरल में सबरीमाला के भगवान अयप्पा मंदिर जाने की कोशिश करते समय केरल पुलिस द्वारा एहतियातन हिरासत में लिए गए, केरल में भाजपा के महासचिव के. सुरेन्द्रन को रविवार को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया और मजिस्ट्रेट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. उन पर गैर जमानती अपराधों के आरोप लगाए गए हैं. इसके विरोध में भाजपा ने प्रदर्शन का ऐलान किया है. Also Read - कलकत्ता हाईकोर्ट पहुंचा 'नंदीग्राम का संग्राम'- मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने BJP के शुभेंदु अध‍िकारी की जीत को दी चुनौती

मंदिर जाते समय हुई गिरफ्तारी

पूजन सामग्री लेकर जा रहे सुरेन्द्रन को शनिवार की रात को निलक्कल से हिरासत में ले लिया गया. वह दो अन्य लोगों के साथ सबरीमाला स्थित मंदिर जा रहे थे.पुलिस अधीक्षक यतीश चंद्रा ने सुरेन्द्रन को सबरीमाला की ओर ना जाने के लिए कहा था लेकिन वह रुके नहीं. उन्हें शनिवार की रात को एहतियातन हिरासत में ले लिया गया और चित्तर पुलिस थाने लाया गया. उन्हें रविवार तड़के पत्तनमतिट्टा जिला अस्पताल ले जाया गया और फिर प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट के समक्ष उनके घर पर उन्हें पेश किया गया. मजिस्ट्रेट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. पुलिस ने सुरेन्द्रन के खिलाफ आईपीसी की धारा 353 और 34 के तहत मामले दर्ज किए हैं.

सबरीमाला विवाद: निलक्कल में पुलिस और अयप्पा श्रद्धालुओं के बीच झड़प, राज्‍य सरकार ने बीजेपी-आरएसएस पर मढ़ा दोष

राजनीति से प्रेरित गिरफ्तारी

पत्रकारों से बातचीत में सुरेन्द्रन ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया, उन्हें पानी, भोजन और दवाएं नहीं दी. उन्होंने आरोप लगाया कि यह गिरफ्तारी राजनीति से प्रेरित है और राज्य सरकार की प्रतिशोध की कार्रवाई है. भाजपा नेताओं और अन्यों को पुलिस थाने लाने के तुरंत बाद गत रात बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी चित्तर पुलिस थाने के सामने एकत्रित हो गए. भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ तिरुवनंतपुरम में राज्य सचिवालय और कोच्चि, कोट्टायम तथा कन्नूर समेत राज्य भर में प्रदर्शन किए.

भाजपा रविवार को विरोध दिवस मना रही है और वह सुबह 10 बजे से राजमार्गों पर वाहनों की आवाजाही अवरुद्ध करेगी. केरल में शनिवार को हिंदू एक्यावेदी अध्यक्ष पी के शशिकला की गिरफ्तारी के खिलाफ 12 घंटे की हड़ताल आहूत की गई. सबरीमला मंदिर 16 नवंबर को दो महीने लंबी तीर्थयात्रा के लिए खुला. (इनपुट एजेंसी)

सबरीमाला विवाद: महिला नेता की गिरफ्तारी के विरोध में दक्षिणपंथी हिन्दू संगठनों की केरल में हड़ताल