निलक्कल (केरल): सबरीमाला में सभी उम्र की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर जारी प्रदर्शन बुधवार को हिंसक हो गया. प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हुई. इस दौरान पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा जिसमें कई लोगों के घायल होने की सूचना है. घटना के बाद निलक्‍कल सहित पम्‍पा, सन्निधानम और एलरवुंगल में धारा 144 लगा दी गई है. Also Read - Sabrimala Utsav 2020: इस साल होगा सबरीमला उत्सव, दो माह चलेगा, जानें कैसे कर सकेंगे दर्शन

Also Read - इंटरनेट को लेकर SC की टिप्पणी से कश्मीर में खुशी की लहर, लोग बोले- फैसला खुश करने वाला

एक महीने की लंबी पूजा के लिए भगवान अय्यप्पा मंदिर के पट खुलने से पहले जमा भीड़ को पुलिस ने तितर-बितर करने की कोशिश की जिसमें एक बूढ़ी महिला और कुछ अन्य लोग घायल हो गए. मंदिर की ओर जाने वाले रास्ते निलक्कल में माहौल सुबह ही तनावपूर्ण हो गया जब प्रदर्शनकारियों ने रास्ते की घेराबंदी शुरू कर दी. पत्रकारों समेत युवा महिलाओं को आगे जाने से रोका गया. Also Read - राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट बोले- कांग्रेस चाहती है कि अयोध्या में बने भव्य मंदिर

प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच उस समय झड़प शुरू हुई जब प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी शुरू की. पुलिस के बार-बार आग्रह के बाद भी प्रदर्शनकारी मानने को तैयार नहीं थे. इस पर पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठी चार्ज किया. इसके बाद प्रदर्शनकारी निकट के जंगली क्षेत्र में भाग गए और उनकी पुलिस के साथ झाड़प हुई.

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं को मिलेगी एंट्री, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पुरुष प्रधानता वाले नियम बदले जाने चाहिए

राज्‍य के मंत्री ई पी जयराजन ने कहा है कि आरएसएस के लोग पहले से ही जंगलों में छिपे हुए थे. हंगामा शुरू होते ही उन्‍होंने दर्शनार्थियों पर हमला कर दिया. इस दौरान 10 पत्रकार, पांच श्रद्धालु और 15 पुलिसकर्मियों पर हमले हुए. मंत्री ने कहा कि केरल ट्रांसपोर्ट निगम की 10 बसें भी क्षतिग्रस्‍त हुई हैं. दूसरे राज्‍यों के श्रद्धालुओं के साथ भी हिंसा की गई. उन्‍होंने आगे बताया कि राज्‍य सरकार केवल सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन सुनिश्चित करवा रही है. उन्‍होंने कहा कि आरएसएस-बीजेपी के लोग इस मामले में राजनीति कर रहे हैं और हिंसा को बढ़ावा दे रहे हैं.

महिला भक्तों ने ही 10 से 50 साल की महिलाओं को सबरीमाला जाने से रोका, तनाव की स्थिति

हालांकि, मंत्री के दावे के विपरीत घटनास्‍थल से प्राप्‍त एक वीडियो में पुलिसकर्मी भी सड़क पर खड़े वाहनों को क्षतिग्रस्‍त करते दिख रहे हैं.

घायल महिला के सिर से खून बह रहा था. उसे घटनास्थल से दूर ले जाया गया. पत्थरबाजी की वजह से कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए और इस क्षेत्र में अब भी तनाव पसरा हुआ है. इसी बीच प्रवीण तोगड़िया के नेतृत्व में दक्षिणपंथी संगठन ‘अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद’ और ‘सबरीमाला समरक्षणा समिति’ ने मध्यरात्रि से 24 घंटे की हड़ताल शुरू करने का आह्वान किया है.

 

इनपुट: एजेंसी