जयपुर: कांग्रेस की राजस्थान इकाई के अध्यक्ष सचिन पायलट ने शुक्रवार को कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला के निर्णय पर सवाल उठाया है. सचिन पायलट ने कहा था राज्यपाल ने आखिर किस आधार पर बी.एस. येदियुरप्पा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया. पायलट ने कहा, “एक देश, एक संविधान, फिर दो कानून! कर्नाटक में ऐसा देखने को मिला, जब राज्यपाल ने भाजपा को नई सरकार गठित करने के लिए बुलाया, जबकि बहुमत कांग्रेस-जनता दल (एस) के पास है.” Also Read - बिहार: कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय से 8 लाख रुपए बरामद, इनकम टैक्स अफसरों ने रणदीप सिंह सुरजेवाला से की पूछताछ

Also Read - वादा तेरा वादा.....बिहार चुनाव में लगी वादों की झड़ी, किस पार्टी ने जनता से क्या की है प्रॉमिस, जानिए

ये भी पढ़ें: कुमारस्वामी का आरोप, भाजपा ने उसके दो विधायकों का अपहरण किया Also Read - Bihar Assembly Election 2020: तेजस्वी की चाल में उलझा जदयू, 77 सीटों पर सीधा मुकाबला

पायलट ने यहां मीडिया से कहा, “हालांकि गोवा, मेघालय और मणिपुर में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी थी, लेकिन राज्यपालों ने फिर भी भारतीय जनता पार्टी को आमंत्रित किया और उसने अपने गठबंधन बनाकर सरकारें बना ली.” पायलट ने सवाल किया, “अलग-अलग राज्यों में राज्यपाल अलग-अलग दृष्टिकोण कैसे अपना सकते हैं?”

ये भी पढ़ें: ‘कर्नाटक में शक्ति परीक्षण आज शाम 4 बजे’, येदियुरप्पा ऐसे साबित कर सकते हैं बहुमत

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद कर्नाटक विधानसभा मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके बीएस येदियुरप्प को शनिवार शाम 4 बजे बहुमत साबित करना है. राज्यपाल ने सबसे बड़े दल के आधार पर येदियुरप्पा को सीएम पद की शपथ दिलाई थी और बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया था. वहीं कांग्रेस और जेडीएस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को फ्लोर टेस्ट की समय सीमा घटा दी और शनिवार को शाम 4 बजे तक बहुमत साबित करने का समय निर्धारित कर दिया.

-इनपुट आईएएनएस