जयपुर: राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने राज्यसभा के लिए कांग्रेस नेता के सी वेणुगोपाल की उम्मीदवारी का मंगलवार को बचाव किया. इससे एक दिन पहले भाजपा ने कथित रूप से आरोप लगाया था कि वेणुगोपाल बलात्कार के आरोपों का सामना कर रहे हैं. कांग्रेस ने वेणुगोपाल को राजस्थान से राज्यसभा का उम्मीदवार बनाया है. Also Read - कांग्रेस ने साधा आप पर निशाना, कहा-पंजाब में इनका कोई भविष्य नहीं है

भाजपा राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने सोमवार को कथित रूप से आरोप लगाया था कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी कुर्सी बचाने के लिये कांग्रेस उम्मीदवार वेणुगोपाल को राज्य से राज्यसभा भेज रहे हैं. पूनिया ने आरोप लगाया था कि वेणुगोपाल के खिलाफ बलात्कार का एक मामला दर्ज है. Also Read - मशहूर शायर और कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी को सीएए विरोध प्रदर्शन को लेकर इतने करोड़ रूपए का नोटिस  

पायलट ने भाजपा के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए एक बयान में कहा कि ‘‘हर चुनाव से पहले राजनीतिक लाभ के लिये झूठे आरोप लगाना भाजपा की प्रवृत्ति है.’’ पायलट ने कहा कि ‘तथाकथित आरोप’ 2011 में लगाए गए थे और इस मामले में 2018 में केवल प्राथमिकी दर्ज की गई थी. उन्होंने कहा कि सच्चे सबूतों के अभाव में आज तक उस शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. Also Read - बालासाहेब थोराट ने लगाया आरोप, कहा-आरक्षण समाप्त करने का प्रयास कर रही है RSS और BJP  

बता दें कि मध्य प्रदेश में चल रहे राजनीतिक संकट के बीच प्रदेश कांग्रेस अपने बागी विधायकों से संपर्क कायम कराने के लिए मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई थी. मध्य प्रदेश कांग्रेस ने अपनी याचिका में कोर्ट से उसके विधायकों को बेंगलुरू में गैरकानूनी तरीके से बंधक बनाये जाने की केंद्र, कर्नाटक सरकार और प्रदेश की भाजपा इकाई की कार्रवाई को गैरकानूनी घोषित करने का अनुरोध किया है.

इससे पहले, सवेरे शीर्ष अदालत ने मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार को भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की याचिका पर बुधवार की सवेरे साढ़े दस बजे तक जवाब देने का निर्देश दिया था. बीजेपी नेता चौहान ने इस याचिका में कमलनाथ सरकार को विधानसभा में तत्काल विश्वास मत हासिल करने का निर्देश देने का अनुरोध किया है.