मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया की नौसेना ने सोमवार को जानकारी देते हुए बताया कि भारतीय नौसेना के घायल नाविक अभिलाष टॉमी वतन लौटने वाले हैं. बता दें कि विभिन्न देशों के अभियान के बाद ऑस्ट्रेलिया के पास हिंद महासागर के सुदूरवर्ती क्षेत्र से उन्हें बचाया गया था.

समुद्र में जिंदगी की जंग लड़ रहे नौसेना के कमांडर अभिलाष टॉमी को 3 दिन बाद बचाया गया

गौरतलब है कि 24 सितम्बर को तीन दिन तक समुद्र में अपनी नाव पर अकेले जिंदगी की जंग लड़ रहे भारतीय नौसेना के कमांडर अभिलाष टॉमी को बचाया गया था. भारतीय नौसेना के कीर्ति चक्र से सम्मानित कमांडर अभिलाष टॉमी को पिछले सोमवार को दक्षिणी हिंद महासागर से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था. गोल्डन ग्लोब में हिस्सा लेने के दौरान समुद्र में तेज लहरें उठने से उनकी नाव का पोल टूट गया था. इसकी वजह से वह गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

पीएम मोदी ने कमांडर अभिलाष टॉमी की सराहना की, बोलेे- उनका साहस युवाओं को करेगा प्रेरित

वह तीन दिन से घायल अपनी नाव में समुद्र में फंसे हुए थे गोल्डन ग्लोब रेस (जीजीआर) में हिस्सा ले रहे कीर्ति चक्र विजेता 39 वर्षीय टॉमी की नाव ऑस्ट्रेलिया के पर्थ से करीब 1900 नॉटिकल मील दूर समुद्र में तूफान की चपेट में आ गई. ऊंची लहरों की चपेट में आकर उनकी नौका का मस्तूल भी टूट गया था. ऑस्ट्रेलियाई नौसेना ने सिडनी में एक बयान में कहा कि बुरी तरह चोटिल हुए टॉमी भारतीय नौसेना के मालवाहक जहाज आईएनएस सतपुड़ा से लौट रहे हैं.

हिंद महासागर की तूफानी लहरों के बीच नौका पलटी, नेवी ऑफिसर बुरी तरह घायल

दोनों नाविक अब सुरक्षित हैं
गोल्डन ग्लोब स्पर्धा में हिस्सा लेने वाले टॉमी और आयरलैंड निवासी ग्रेगोर मैकगुकिन को पिछले सोमवार को फ्रांस के जहाज ने बचाया था और उन्हें दक्षिणी हिंद महासागर में एक द्वीप ‘आइल एम्सटर्डम’ ले जाया गया. ऑस्ट्रेलियाई नौसेना प्रमुख वाइस एडमिरल माइक नूनन ने कहा, ‘हमें यह बताते हुए खुशी है कि दोनों नाविक अब सुरक्षित हैं.’ भारतीय नौसेना के समुद्री निगरानी विमान पी 8 आई ने भी बचाव अभियान में सहयोग दिया और ऑस्ट्रेलियाई नौसेना ने अभियान के तहत अपना एक पोत वहां भेजा था. (इनपुट भाषा)