कोलकाता: वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने बुधवार को कहा कि गोवा में उनकी पार्टी के दो विधायकों का भाजपा में जाना भगवा पार्टी के लिए ‘झटका’ है क्योंकि पार्टी ‘सिद्धांतों की राजनीति’ की बात करती है और संगठन असल में इसके उलट है.

खुर्शीद ने कहा, ‘‘आप इसे (हमारे लिए) झटका कह सकते हैं लेकिन मेरा मानना है कि यह भाजपा के लिए झटका है, क्योंकि पार्टी सिद्धांतों की राजनीति करने की बात करती है. उन्होंने शिकायत की है कि उनके सत्ता में आने से पहले सबकुछ गलत था और अब हर दिन हम उन्हें इस तरह से काम करते हुए देखते हैं जिस पर सवाल खड़ा होता है.’’

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘जो विधायक आज गए हैं, वे कल वापस आ सकते हैं. जो वहां हैं (विपक्ष की तरफ), यहां (सत्तारूढ़ दल की ओर) आ सकते हैं……क्या हम ऐसी राजनीति चाहते हैं?’’ कालेज स्क्वायर पूजा शामियाने का दौरा करने के बाद खुर्शीद ने संवाददाताओं को बताया कि यह दुखद है कि ऐसे समय में वह कांग्रेस छोड़कर भाजपा में जा रहे हैं जब हर कोई भाजपा छोड़कर कांग्रेस में आने के बारे में सोच रहा है. देखिये, चीजें कैसे बदलती हैं.

इलाहाबाद के बाद अब फैजाबाद की बारी, संतों की हुंकार ‘अयोध्‍या करें नया नाम’

गोवा के दो कांग्रेस विधायक – सुभाष शिरोडकर और दयानंद सोप्ते – मंगलवार को पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए. इनमें से एक पार्टी का पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भी है. यह विपक्षी दल के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह और आशीष देशमुख कांग्रेस में शामिल

सबरीमाला मामले में खुर्शीद ने कहा कि समाज में विभिन्न विचार हैं और शीर्ष अदालत ने इस मसले का समाधान करने के लिए सर्वश्रेष्ठ कदम उठाया है. उन्होंने कहा, ‘‘सुप्रीम कोर्ट ने अंतत: जो निर्णय दिया है, उसे हमें स्वीकार करना होगा. अगर हमें कोई समस्या है तो हम वापस शीर्ष न्यायालय के पास जा सकते हैं और इसकी व्याख्या कर सकते हैं.’’