गोरखपुर: पूर्वोत्तर में बीजेपी को मिली ऐतिहासिक जीत के बाद अब विपक्ष एकजुट हो रहा है. यूपी में फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी ने समाजवादी पार्टी को समर्थन का ऐलान कर दिया है. बहुजन समाज पार्टी इन दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े नहीं करेगी. दरअसल दोनों पार्टियों की ये नजदीकी बीजेपी के जीत के रथ को रोकने के लिए है. गोरखपुर में बीएसपी के इनचार्ज घनश्याम चंद्र खरवार ने रविवार को समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार प्रवीण कुमार निषाद को समर्थन का ऐलान कर दिया.Also Read - PM मोदी की तारीफ करने वालीं अपर्णा यादव ने कहा- अखिलेश समाजवाद का दूसरा नाम, सपा ने विकास कराया

Also Read - अखिलेश यादव ने कहा- योगी आदित्यनाथ 24 घंटे काम करते हैं, फिर भी महंगाई-बेरोजगारी बढ़ी, Dial 100 तो...

Also Read - शराबबंदी सही है या नहीं... महिलाओं से पूछने निकलेंगे नीतीश कुमार, जल्दी ही यात्रा करेंगे

हालांकि बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी 2019 के लोकसभा चुनाव में किसी भी पार्टी से गठबंधन करने नहीं जा रही है. उन्होंने सपा के साथ गठबंधन की खबरों को भी बेबुनियाद बताया. उन्होंने कहा कि फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीट के लिए होने जा रहे उपचुनाव में सपा के समर्थन की बात कही.

ये भी पढ़ें- मायावती जिद्दी हैं और उनकी पार्टी परचून की दुकान: भाजपा नेता दयाशंकर सिंह

दरअसल 2014 में हुए आम चुनाव में मायावती की बहुजन समाज पार्टी अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी वहीं समाजवादी पार्टी का प्रदर्शन भी बहुत निराशाजनक रहा था. उसके बाद हुए यूपी विधानसभा चुनाव में भी बीएसपी की हालत बहुत खराब रही थी और समाजवादी पार्टी की सत्ता भी चली गई थी. ऐसे में दोनों पार्टियां एक साथ चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो रही हैं.  इससे पहले इलाहाबाद से बीएसपी के जोनल कोऑर्डिनेटर अशोक गौतम ने कहा कि, ”हम लोग बीजेपी को सत्ता से दूर करना चाहते हैं और इसलिए बीएसपी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने फैसला किया है कि हम फूलपुर से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार नागेंद्र सिंह पटेल को समर्थन देंगे”.

ये भी पढ़ें- सबसे युवा महिला सीएम बनी थीं मायावती, जानिए ‘बहन जी’ की कहानी

गौरतलब है कि पिछले विधानसभा चुनाव में सपा को 28 प्रतिशत और बहुजन समाजवादी पार्टी को 22 प्रतिशत वोट मिले थे. दोनों को जोड़ ले तो ये 50 प्रतिशत वोट हो जाता है ऐसी स्थिति में बीजेपी के लिए उपचुनाव में सपा के प्रत्याशियों को हराना बेहद मुश्किल हो जाएगा. हालांकि वोट के मामले में बीजेपी को दोनों पार्टियों से मिलाकार ज्यादा वोट मिले थे. इससे पहले समाजवादी पार्टी के सुनील सिंह ने भी स्पष्ट किया था कि बीएसपी दोनों उपचुनाव नहीं लड़ेगी और समाजवादी पार्टी बीजेपी को कड़ी टक्कर देगी.

फूलपुर से केशव प्रसाद मौर्य और गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ के इस्तीफा देने के बाद उपचुनाव होना है. फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीट पर 11 मार्च को उपचुनाव है और 14 मार्च मतगणना कर नतीजे घोषित किए जाएंगे. बीजेपी ने फूलपुर लोकसभा सीट के लिए कौशलेंद्र पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया है. तो वहीं सपा ने नागेंद्र पटेल पर दांव लगाया है. जबकि कांग्रेस ने मनीष मिश्रा को मैदान में उतारा है. बाहुबली और सपा के पूर्व सांसद अतीक अहमद ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर फूलपुर लोकसभा सीट पर नामांकन दाखिल किया है.