लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को पेश उत्तर प्रदेश सरकार के बजट को ‘पुरानी बोतल में नया पानी’ करार दिया और कहा कि इस बजट में प्रदेश के किसानों, छात्रों, युवाओं, महिलाओं और आम आदमी के लिये कुछ भी नहीं है. बजट के बाद विधानसभा में विपक्ष के नेता समाजवादी पार्टी के राम गोविंद चौधरी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि यह बजट गरीब विरोधी, किसान विरोधी, मजदूर विरोधी, पिछड़ा वर्ग विरोधी, अल्पसंख्यक विरोधी, दलित विरोधी, महिला विरोधी, नौजवान विरोधी है . Also Read - मनीष सिसोदिया का बयान, कहा-कोविड-19 पर ‘‘ओछी’’ राजनीति कर रही है भाजपा 

उन्होंने कहा,‘‘ राज्य की वास्तविक स्थिति यह है कि प्यार, दया के हंसते हुये माहौल को खराब कर दिया गया है . 5, 12, 860 . 72 करोड़ रुपए का इनका बजट है, पुरानी बोतल में नये पानी को रखा गया है . पिछले बजट का पैसा क्या हुआ यह इन्होंने कुछ बताया नहीं और इस बजट में केवल अनुमान है . इस बजट से समाज के किसी वर्ग को कोई फायदा नहीं होगा . किसी भी तबके का कोई हित नहीं है.’’ उन्होंने कहा कि यह बजट दिशाहीन है और जनता के खिलाफ है. Also Read - योगी आदित्यनाथ का निर्देश, लॉकडाउन में असहयोग करने वालों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई 

बता दें कि बजट में धार्मिक स्थलों पर विशेष ध्यान दिया गया है. अयोध्या में उच्च स्तरीय पर्यटक अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए 85 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया है. वहीं, अयोध्या एयरपोर्ट के लिए 500 करोड़ रुपए का प्रस्तावित हैं. Also Read - योगी सरकार का ऐलान, कहा-बारिश, ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को दी जाएगी सहायता राशि   

वाराणसी में संस्कृति केंद्र की स्थापना के लिए बजट में 180 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है. इसके अलावा गोरखपुर के रामगढ़ ताल में वाटर स्पोर्ट्स के लिए 25 करोड़ रुपए, वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर के लिए 200 करोड़ रुपए का भी प्रावधान किया गया है.

खन्ना ने कहा कि मेरठ, गाजियाबाद, फिरोजाबाद, अयोध्या, गोरखपुर, मथुरा-वृंदावन और शाहजहांपुर को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा. बजट में कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए 358 करोड़ रुपए, आगरा मेट्रो रेल परियोजना के लिए 286 करोड़ रुपए तथा गोरखपुर और अन्य शहरों की मेट्रो के लिए 200 करोड़ रुपए का प्रस्तावित किए गए हैं.

इनपुट -एजेंसी