रामपुर: समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान के सामने अब नया बवाल खड़ा हो गया है. आजम खान द्वारा स्थापित मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय पर छापा मारकर पुलिस ने मदरसा आलिया से चोरी की गई किताबें बरामद की हैं. आजम इस विश्वविद्यालय के प्रमुख ट्रस्टी हैं. पुलिस की एक टीम 10 गाड़ियों में मौलाना जौहर विवि पहुंची और सेंट्रल लाइब्रेरी की तलाशी शुरू कर दी. यहां से पुलिस ने कुछ किताबें बरामद कीं. कर्मचारियों ने इसका विरोध किया तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया. आरोप है कि ये सभी किताबें मदरसा आलिया की लाइब्रेरी से चोरी की गई थीं.

छापे के दौरान पत्रकारों और मीडियाकर्मियों को परिसर के अंदर प्रवेश करने की अनुमति नहीं थी, लेकिन बाहर आकर पुलिस अधीक्षक डॉ. अजय पाल ने बताया कि मदरसे से चोरी की गईं कुछ किताबें जौहर विवि की लाइब्रेरी से मिली हैं. डा़ॅ पाल ने कहा कि बरामद की गईं किताबों में से किसी की भी जानकारी पुस्तकालय प्रमुख के पास नहीं है. उन्होंने बताया, “हमें मदरसा आलिया की ओर से कई किताबें और पांडुलिपियों की चोरी की शिकायत मिली थी. इसी शिकायत के आधार पर मोहम्मद अली जौहर विवि की लाइब्रेरी की जांच की गई.”

BJP की महिला सांसद पर विवादित टिप्पणी: आखिर 4 दिन बाद आजम खान ने लोकसभा में माफी मांगी

एसपी ने कहा, “पांच कर्मचारियों को हिरासत में लिया गया है. मामले की जांच अभी भी जारी है और कई अन्य लोगों से भी पूछताछ की जा सकती है. परिसर के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है.” रामपुर जिला प्रशासन अब सांसद आजम खां के हमसफर रिसॉर्ट पर भी बुलडोजर चलाने की तैयारी में है. इसके लिए उन्हें नोटिस जारी कर दिया गया है, जिसमें कहा गया है कि उन्होंने सिंचाई विभाग के नाले की एक हजार गज जमीन पर अवैध कब्जा कर रखा है.

जिला प्रशासन आजम खां पर शिकंजा कसता जा रहा है. पांच दिन पहले उनकी जौहर यूनिवर्सिटी के गेट को तोड़ने के आदेश दिए गए थे. अब आजम का हमसफर रिसॉर्ट भी प्रशासन के निशाने पर आ गया है. जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने बताया, “हमसफर रिसॉर्ट में एक हजार गज जमीन पर कब्जा किया गया है.” गौरतलब है कि जौहर विवि में यह छापा उस वक्त पड़ा है, जब पहले से ही आजम खान जमीन कब्जाने के कई मामलों में घिरे हुए हैं. आजम खान पर पहले से ही अजीमनगर थाने में जमीन हड़पने को लेकर कुल 27 मुकदमे दर्ज हैं.