रामपुर: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के सांसद आजम खां (Azam Khan) लगभग दो महीने के अंतराल के बाद सोमवार को रामपुर (Rampur) पहुंचे, जहां वह पत्नी तंजीन फातिमा के नामांकन के समय उनके साथ रहे. तंजीन रामपुर सीट से विधानसभा उपचुनाव लड़ने जा रही हैं. कलेक्टरेट में पत्नी के नामांकनपत्र दाखिल करते समय उनका साथ देने के बाद आजम विशेष जांच दल (एसआईटी) के सामने पेश भी हुए. एसआईटी उनके खिलाफ दर्ज मामलों की जांच कर रहा है.

आजम ने महिला पुलिस थाने जाकर एसआईटी के अधिकारी दिनेश गौर के सामने अपना स्पष्टीकरण दिया. उस दौरान उनकी पत्नी और बेटे अब्दुल्ला आजम उनके साथ थे. एसआईटी ने आजम को नोटिस जारी कर उन्हें 30 सितंबर तक पेश होने को कहा था. एसआईटी और आजम खां के बीच यह पहली बातचीत थी. गौरतलब है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय उनके खिलाफ दर्ज जमीन हड़पने के 27 मामलों में उनकी गिरफ्तारी पर पहले ही रोक लगा चुका है. आजम इस समय 84 मामलों में नामजद हैं. उनके खिलाफ मामले जमीन हड़पने, जबरन कब्जा, किताबों, मूर्तियों, भैंस और बकरी की चोरी व फर्जीवाड़े से संबंधित हैं.

अखिलेश ने कहा- साजिश के तहत आज़म खान को किया जा रहा बदनाम, अपने कारनामे देखे बीजेपी सरकार

इस बीच, नामांकन दाखिल करने से पहले तंजीन फातिमा ने 30 लाख रुपये का जुर्माना भरा. उन पर यह जुर्माना उनके आलीशान बंगले ‘हमसफर’ में बिजली चोरी केएवज में लगाया गया था. तंजीन फातिमा रामपुर विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ने की तैयारी में हैं. इस सीट से उनके पति आजम नौ बार विधायक रहे हैं. तंजीन राज्यसभा सदस्य हैं, लेकिन उनका कार्यकाल अगले साल नवंबर में पूरा हो जाएगा.