नई दिल्ली. दिवंगत स्क्वाड्रन लीडर समीर अबरोल के दुखी परिवार ने कहा है कि नौकरशाही मौज मस्ती करती है जबकि वायु योद्धाओं को लड़ने के लिए पुरानी मशीनें दी जाती हैं. स्क्वाड्रन लीडर समीर अबरोल पिछले सप्ताह बेंगलुरू में हुए मिराज 2000 विमान दुर्घटना में जान गंवाने वाले दो पायलटों में शामिल थे. अबरोल के भाई सुशांत ने फेसबुक पर एक भावनात्मक कविता पोस्ट की है जिसमें लिखा है कि परीक्षण पायलट का काम बहुत जोखिमभरा होता है. Also Read - चीन के साथ 'न युद्ध की स्थिति न शांति की', मगर किसी भी दुस्साहस का जवाब देने को हम तैयार: वायुसेना प्रमुख

सुशांत के इस पोस्ट को काफी शेयर किया जा रहा है. सुशांत ने लिखा है, ‘‘नौकरशाही जहां मौज मस्ती करती है. हम अपने योद्धाओं को लड़ने के लिए देते हैं पुरानी मशीनें, इसके बावजूद वे अपना कार्य समस्त कौशल और पराक्रम से पूरा करते हैं.’’ अबरोल और स्क्वाड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी ‘एयरक्राफ्ट एंड सिस्टम्स टेस्टिंग इस्टैब्लिशमेंट’ से थे. इस विमान दुर्घटना में दोनों की मृत्यु हो गई. दोनों पायलट शुक्रवार को उस मिराज-2000 ट्रेनर के परीक्षण उड़ान पर थे जिसका हाल में हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा उन्नयन किया गया था. Also Read - MS Dhoni ने राफेल के IAF में एंट्री पर जताई खुशी, किया दिल जीतने वाला ये मैसेज

Also Read - 'हम कुछ नहीं होने देंगे' कह जान बचाने उतरे वायुसेना के जाबांज, लोग बोले- ये हैं भगवान का रूप, VIDEO

एक अन्य पोस्ट में सुशांत ने कहा, ‘‘वक्त आ गया है कि हम सिर्फ खोए हुए वोटो की परवाह नहीं करें, बल्कि उन पायलटों की भी परवाह करें जो इस भ्रष्ट व्यवस्था की लापरवाही के चलते शहीद हुए हैं.’’ सुशांत की पोस्ट को अबरोल की पत्नी गरिमा ने भी शेयर किया है.

दुर्घटनाग्रस्त मिराज का ब्लैक बॉक्स फ्रांस भेजा गया
इधर, बीते हफ्ते बेंगलुरू में दुर्घटनाग्रस्त हुए मिराज-2000 प्रशिक्षक विमान का ब्लैक बॉक्स इसके उपकरण बनाने वाली फ्रांस की कंपनी दसाल्ट एविएशन को भेज दिया गया है. कंपनी इसके डाटा से जानकारी जुटाएगी. हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. एक फरवरी को इसी विमान में हुए हादसे में स्क्वॉड्रन लीडर समीर अबरोल और स्क्वॉड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी की मौत हो गई थी. वे विमान को अपग्रेड किए जाने के बाद एक इसके परीक्षण के लिए संक्षिप्त यात्रा पर निकले थे. हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड और वायुसेना दुर्घटना की वजह पता लगाने के लिए संयुक्त जांच कर रहे हैं.

(इनपुट – एजेंसी)