Samyukt Kisan Morcha केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों ने बृहस्पतिवार को कहा कि मेडिकल ऑक्सीजन ले जाने वाले वाहनों को रास्ता देने के लिए सिंघू बॉर्डर पर राजमार्ग के एक हिस्से को खोला जाएगा. हरियाणा सरकार के अधिकारियों के साथ शाम को हुई मुलाकात के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने यह निर्णय लिया.Also Read - चंडीगढ़ और हिमाचल प्रदेश के हज़ारों डेयरी किसानों ने हड़ताल शुरू की, दूध की सप्लाई प्रभावित

मोर्चे के नेता दर्शनपाल ने एक बयान में कहा, ‘ बैठक में ऑक्सीजन वाले वाहनों, एम्बुलेंस और ऐसे अन्य आपातकालीन वाहनों को रास्ता देने के लिए सिंघू बॉर्डर पर राजमार्ग के एक तरफ की सड़क पर लगे बैरिकेड को हटाने का निर्णय लिया गया.’ उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारी किसान कोविड-19 महामारी से निपटने में हरसंभव सहायता करेंगे. Also Read - पंजाब में नाराज किसान फिर धरने पर बैठे, सीएम भगवंत मान ने कहा-मैं भी किसान का बेटा, आपकी परेशानी समझ सकता हूं

बयान के मुताबिक, बैठक में सोनीपत के पुलिस अधीक्षक, मुख्यमंत्री काार्यालय के अधिकारी और संयुक्त किसान मोर्चा के नेता मौजूद रहे. दर्शन पाल ने प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा दिल्ली को होने वाली ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित किए जाने के आरोपों को निराधार करार दिया. Also Read - पंजाब में 23 किसान संगठनों का मार्च, मोहाली-चंडीगढ़ बॉर्डर पर धरने पर बैठे | Watch Video

(इनपुट भाषा)