नई दिल्लीः महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना के बीच सियासी टकराव लगातार जारी है. शिवसेना लगातार सीएम पद की मांग को लेकर अड़ी हुई है. महाराष्ट्र के राज्यपाल ने भाजपा को राज्य में सरकार बनाने के लिए कहा है, वहीं शिवसेना नेताओं ने इसका विरोध किया है. अब शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि अगर राज्य में कोई सरकार बनाने को तैयार है तो शिवसेना इसकी जिम्मेदारी ले सकती है.

संजय राउत ने अपने बयान में कांग्रेस का समर्थन करते हुए कहा कि कांग्रेस राज्य की दुश्मन नहीं है और राजनीति में लगभग हर पार्टी के बीच में कुछ न कुछ मतभेद जरूर होते हैं. संजय राउत ने एक बार फिर से सियासी संकट के बीच में भाजपा पर हमला बोला है. उन्होंने अपने बयान में कहा कि शिवसेना राजनीति के लिए कभी भी व्यापार नहीं करती. उन्होंने कहा कि शिवसेना की शब्दावली में डील शब्द ही नहीं है.

उधर दूसरी तरफ NCP लीडर शरद पवार ने भी इस बात के संकेत दे दिए हैं कि राज्य में सरकार बनाने के लिए पार्टी शिवसेना को अपना समर्थन दे सकती है. शरद पवार ने समर्थन के सवाल पर कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से बात होने के बाद ही अंतिम फैसला लिया जाएगा. आज उद्धव ठाकरे पार्टी के नेताओं के साथ इस मुद्दे पर बैठक करने वाले है. शायद एक दो दिन में यह मालूम चल जाएगा कि महाराष्ट्र की राजनीति किस तरफ जाएगी.

शरद पवार हुए नरम, शिवसेना को दे सकते हैं सरकार बनाने के लिए समर्थनः सूत्र

राम मंदिर के मुद्दे पर संजय राउत ने कहा कि यह मुद्दा किसी एक पार्टी का नहीं था बल्कि यह पूरे देश का मुद्दा था और यह सभी लोगों की जीत है. इसे किसी एक से जोड़कर नहीं देखना चाहिए. उन्होंने कहा कि शिवसेना राम मंदिर आंदोलन में शुरू से है और हमारे सैनिक शहीद भी हुए है और जिसको जश्न मानना है मनाये.