Also Read - Night Curfew को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने किया यह अहम फैसला, जानें क्या है नया आदेश

Also Read - दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? केंद्र सरकार ने दिया जवाब- केजरीवाल सरकार की बताई गलती

दौसा (राजस्थान), 24 अप्रैल | राष्ट्रीय राजधानी में आम आदमी पार्टी (आप) की रैली में पेड़ से फंदा लगाकर खुदकुशी करने वाले गजेंद्र सिंह के परिवार से मुलाकात करने के लिए आप नेता शुक्रवार को उनके घर पहुंचे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के विश्वासपात्र आप नेता संजय सिंह ने गजेंद्र के अंतिम संस्कार के एक दिन बाद उसके शोकाकुल परिवार से मुलाकात की। यह भी पढ़ें– किसान की आत्महत्या मामले की निष्पक्ष जांच हो : भाजपा सांसद Also Read - Night Curfew In Delhi: दिल्ली में भी लगाया जा सकता है नाइट कर्फ्यू, केजरीवाल सरकार ने दिए संकेत

गजेंद्र के परिजनों से मुलाकात के बाद संजय सिंह ने संवाददताओं से कहा कि उन्होंने दिल्ली सरकार से गजेंद्र के लिए शहीद का दर्जा और उसके परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की मांग की है।  सिंह ने कहा, “मैं यब बात केजरीवाल तक पहुंचाऊंगा। मामले पर दिल्ली सरकार सहानुभूतिपूर्वक विचार करेगी।” उन्होंने हालांकि अन्य सवालों के जवाब देने से मना कर दिया। यह भी पढ़ें–मानव संसाधन भारत का सबसे मजबूत पक्ष: मोदी

आप नेताओं और पीड़ित गजेंद्र के परिजनों के बीच यह पहली मुलाकात थी। उल्लेखनीय है कि घटना के बाद पिछले दो दिनों से गजेंद्र का परिवार उसकी जान बचाने के लिए प्रयास न करने पर आप नेताओं पर हमला कर रहा था।  गजेंद्र ने बुधवार को दिल्ली के जंतर मंतर पर भूमि अधिग्रहण विधेयक के खिलाफ रैली में पेड़ से फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली थी।  दिल्ली पुलिस ने आप के कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाया है कि उन्होंने पुलिस को पीड़ित को बचाने के लिए जाने से रोका। आप ने हालांकि पुलिस के आरोप को खारिज करते हुए उस पर तुरत कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है। गजेंद्र को आप कार्यकर्ताओं ने ही अस्पताल पहुंचाया था।

इससे पहले शुक्रवार को केजरीवाल ने घटना की जानकारी के बाद भी भाषण देने पर माफी मांगी है। साथ ही उन्होंने कहा कि जब गजेंद्र को पेड़ से उतारा गया था तो वह जिंदा था। उसे अस्पताल में मृत घोषित किया गया।