प्रयागराज: इलाहाबाद विश्वविद्यालय के एक प्राध्यापक ने बुधवार को कोतवाली थाना अंतर्गत चंद्रलोक चौराहे के पास बने अपने मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. प्राध्यापक संजीव भदौरिया ने इस घटना से पूर्व लिखे सुसाइड नोट में इस कदम के लिए खुद को जिम्मेदार बताया.

कोतवाली निरीक्षक बच्चे लाल ने बताया कि 58 वर्षीय भदौरिया इलाहाबाद विश्वविद्यालय में रक्षा एवं रणनीतिक विभाग में प्राध्यापक थे और पिछले कई महीने से बीमारी से ग्रस्त थे. बीमारी से परेशान होकर उन्होंने यह कठोर कदम उठाया. लाल ने बताया कि बुधवार की सुबह प्रोफेसर भदौरिया अपनी पत्नी से यह कहकर कमरे से बाहर निकले कि वह दवा खरीदने और खून की जांच कराने जा रहे हैं. लेकिन जब उनकी पत्नी ने देखा कि दो घंटे बीतने के बाद भी उनके पति वापस नहीं आए तो वह उन्हें खोजने के लिए मकान की दूसरी मंजिल पर चली गईं.

मध्य प्रदेश में हुआ बड़ा सड़क हादसा, नदी में बस गिरने से हुई 6 की मौत, 19 घायल

उन्होंने बताया कि प्राध्यापक की पत्नी नीता ने अपने पति को पंखे से लटकते पाया और तुरंत पड़ोसियों को बुलाया जिन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी. बच्चे लाल ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम देर रात ही करा लिया गया.