सिरसा (हरियाणा): सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर ने रविवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की करतारपुर गलियारे को लेकर ‘नाटक’ करने व इस्लाम कबूल करा मुस्लिम व्यक्ति से विवाह के लिए मजबूर की गई सिख लड़की की इज्जत और सम्मान की रक्षा नहीं करने को लेकर आलोचना की.

इस ‘पाप’ के खिलाफ लोगों से सड़क पर उतरने की अपील करते हुए कौर ने सवाल किया कि खालिस्तान के समर्थक नेता और खान के दोस्त गोपाल सिंह चावला तथा गुरपतवंत सिंह पन्नू सिख होने के बावजूद इस जबरन धर्मपरिवर्तन को लेकर चुप क्यों हैं. उन्होंने कहा कि मैं चावला, पन्नू और हमार भाई (नवजोत सिंह) सिद्धू से पूछना चाहती हूं कि वो बोल क्यों नहीं रहे हैं? घटना की निंदा क्यों नहीं कर रहे? आप कहां गायब हो गए हैं? कौर ने कहा कि मुझे शर्मिंदगी महसूस हो रही है और मैं आपकी चुप्पी का कारण जानना चाहती हूं. गौरतलब है कि कौर के भाई सरबजीत सिंह को पाकिस्तान की अदालत ने मौत की सजा सुनायी थी. जेल के भीतर ही 2013 में साथी कैदियों ने उनकी हत्या कर दी. कौर ने इमरान खान को ऐसा झूठा, कायर और धोखेबाज व्यक्ति बताया जो कहता कुछ और है और करता कुछ और.

पाक में जबरन धर्मपरिवर्तन और निकाह कराने से सिख समुदाय नाराज, मुद्दें को UN में उठाने की मांग

उन्होंने कहा कि हम हमेशा से जानते हैं कि पाकिस्तान पीठ पर वार करता है और कभी भारत का दोस्त नहीं हो सकता है. लेकिन उसने सारी हदें पार कर दीं और मानवता की हत्या कर दी. हमारे पूर्वजों ने बहन बेटियों की इज्जत के लिए अपनी जान दी है. कौर ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि सभी जाति, धर्म और तबके से ऊपर उठकर मानवीय आधार पर सामने आएं और पाकिस्तान तथा खान के खिलाफ प्रदर्शन करें. उन्होंने भारत सरकार से भी ‘कड़े कदम उठाने’ और जरूरत पड़ने पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में जाने के लिए तैयार रहने की अपील की.