कोलकाता, 6 अप्रैल | करोड़ों रुपयों के शारदा चिटफंड घोटाला मामले की जांच कर रही केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस को नोटिस भेजा है। नोटिस में जांच एजेंसी ने पार्टी के खातों का ब्योरा मांगा है। तृणमूल कांग्रेस के महासचिव सुब्रत बख्शी को संबोधित करते हुए भेजे गए नोटिस में जांच एजेंसी ने 2010 के बाद से पार्टी की आय और उसके खर्चो की जानकारी मांगी है। इन नोटिस का जवाब देने के लिए सात दिनों का समय दिया गया है। यह भी पढ़ें–शारदा घोटाला : ईडी ने चित्रकार शुभप्रसन्ना से पूछताछ की

तृणमूल महासचिव पार्थ चटर्जी ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि नोटिस मिलने के बाद पार्टी उसका जवाब देने पर विचार करेगी। चटर्जी ने पार्टी के रुख को दोहराते हुए कहा कि सीबीआई केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के इशारे पर काम कर रही है। उन्होंने कहा, “हर दिन हमें हजारों पत्र मिलते हैं, और हम उन्हीं का उत्तर देते हैं, जिनके लिए हमें लगता है कि उत्तर देना चाहिए। हमें नोटिस मिलने दो, अगर नोटिस उत्तर देने लायक होगा तो हम उत्तर देंगे।”

इससे पहले जांच एजेंसी ने तृणमूल से फोन के माध्यम से भी संपर्क करने की कोशिश की थी। दो अप्रैल को फोन आने के बाद चटर्जी ने कहा था, “सीबीआई ने पूरी विश्वसनीयता खो दी है। यह निकाय चुनाव के पहले एक राजनीतिक पार्टी के इशारों पर काम कर रही है। हमने भूमि अधिग्रहण विधेयक के खिलाफ आठ अप्रैल को विरोध करने की जैसे ही घोषणा की, उसके ठीक बाद सीबीआई का हमारे दफ्तर में फोन आया।”

इससे पहले जांच एजेंसी ने पार्टी से दरकिनार किए गए तृणमूल नेता मुकुल रॉय को नोटिस भेजा था। फरवरी में पार्टी के पदों से बर्खास्त किए जाने से पहले वे तृणमूल के महासचिव थे। तृणमूल कांग्रेस से राज्यसभा सांसद मुकुल रॉय ने कहा सीबीआई से कहा कि चूंकि अब वह पार्टी के महासचिव नहीं है, इसीलिए जांच एजेंसी बख्शी से संपर्क करे।