कोलकाता: पूर्व कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार शारदा चिटफंड घोटाले से जुड़े मामले के संबंध में आखिरकार शुक्रवार को सीबीआई के समक्ष पेश हुए. इससे पहले उन्हें केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा कई बार तलब किया गया था, लेकिन वह अवकाश पर होने की बात कह कर पेश होने से मुकर जाते थे. राज्य पुलिस विभाग के विशेष जांच दल (एसआईटी) का नेतृत्व कर चुके राजीव कुमार सीजीओ कॉम्प्लेक्स में स्थित केंद्रीय एजेंसी के कोलकाता कार्यालय में सुबह लगभग 10.30 बजे पहुंचे. राजीव कुमार ने शुरुआत में इस करोड़ो रुपए के घोटाले की जांच की थी. फिलहाल वह पश्चिम बंगाल के सीआईडी के अतिरिक्त महानिदेशक के तौर पर तैनात हैं.

CBI दफ्तर नहीं पहुंचे ममता बनर्जी के करीबी पूर्व पुलिस कमिश्नर, कहा- छुट्टी पर हूं, नहीं आ पाऊंगा

एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि वर्तमान में सीआईडी के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक कुमार इस मामले में दूसरी बार पूछताछ के लिए आज सुबह सीबीआई के दफ्तर पहुंचे. फरवरी में कुमार से शिलांग में सीबीआई के अधिकारियों ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के तहत पूछताछ की थी. शीर्ष अदालत ने उन्हें जांच एजेंसी के साथ सहयोग करने को कहा था.

कौन हैं ये पुलिस कमिश्नर, जिनके लिए रात में धरने पर बैठीं ममता बनर्जी, हो रहा रेल रोको प्रोटेस्ट

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी इस मामले में पश्चिम बंगाल पुलिस की विशेष जांच दल (एसआईटी) की अध्यक्षता कर रहे थे. बाद में मामले की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के पास चली गई थी. प्रमुख जांच एजेंसी ने पिछले महीने कुमार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया था और सभी हवाईअड्डों एवं आव्रजन अधिकारियों को सतर्क रहने का निर्देश दिया था ताकि वे देश छोड़ कर नहीं जा सकें. अप्रैल में सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि कुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ इसलिए जरूरी है क्योंकि वह जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे और पूछताछ के दौरान पूछे गए सवालों का जवाब देने से बच रहे थे तथा अड़ियल रवैया अपना रहे थे.

सुप्रीम कोर्ट ने शारदा चिट फंड घोटाले की सीबीआई जांच की निगरानी से किया इनकार