शिलांग: कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार चिट फंड घोटाला मामलों में प्रश्नों का उत्तर देने के लिए बुधवार को लगातार पांचवें दिन सीबीआई के समक्ष पेश हुए. इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि कुमार सुबह करीब साढ़े नौ बजे सीबीआई कार्यालय पहुंचे. कुमार से शारदा पोंजी घोटाले में सबूतों से छेड़छाड़ करने में उनकी भूमिका को लेकर पिछले शनिवार से पूछताछ की जा रही है. अधिकारी ने कहा, उनके साथ दो वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी और उनके वकील विश्वजीत देव भी कार्यालय पहुंचे. Also Read - Coal Smuggling: छापेमारी करने गई CBI तो हुआ हादसा, ECL अधिकारी की हो गई मौत

अधिकारी ने बताया कि शिलांग में उच्च सुरक्षा वाले सीबीआई कार्यालय में पिछले चार दिन में कोलकाता पुलिस प्रमुख 30 घंटे से अधिक समय बिता चुके हैं. उनसे शारदा और रोज वैली चिटफंड घोटाला मामलों में पूछताछ की जा रही है. सीबीआई कार्यालय में मंगलवार अपराह्न नकाब पहने एक अज्ञात व्यक्ति को बुलाया गया था. कुमार के परिसर से जाने के कुछ ही देर बाद यह अज्ञात व्यक्ति आया, जिसके बाद से उसकी पहचान को लेकर कई अटकलें लगाई जा रही हैं. Also Read - Roshni Land Scam Latest News: CBI ने J&K के पूर्व मंत्री कांग्रेस नेता के खिलाफ केस दर्ज

सीबीआई ने इस मामले में कुमार के अलावा तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद कुणाल घोष से भी पूछताछ की थी. पूर्व सांसद को शारदा घोटाले में 2013 में गिरफ्तार किया गया था और वह 2016 से जमानत पर हैं.

सीबीआई के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि घोष से पूछताछ फिलहाल पूरी हो चुकी है और उन्हें कोलकाता लौटने की अनुमति दे दी गई. बता दें किसुप्रीम कोर्ट ने कुमार को सीबीआई के समक्ष पेश होने और जांच में पूरा सहयोग करने का निर्देश दिया था.

सीबीआई तीन फरवरी को कुमार से पूछताछ करने उनके आधिकारिक आवास पहुंची थी, लेकिन कोलकाता पुलिस ने उसे ऐसा करने से रोक दिया था जिसके बाद सीबीआई शीर्ष अदालत पहुंची थी. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तब सीबीआई के कदम के खिलाफ तीन दिन तक संविधान बचाओ धरना दिया था.