नई दिल्लीः गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि राम मंदिर विवाद में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले और इसके बाद पूरे देश में सिर्फ लोग राम मंदिर निर्माण के बारे में ही बात कर रहे हैं. कभी लोग इसकी जगह तो कभी इसके डिजाइन के बारे में डिस्कस करने में लगे हुए हैं, लेकिन मुझे नहीं लगता कोई भी ऐसा व्यक्ति है जो इस बारे में सोच रहा है कि भगवान राम की मदद करने वालों को कहां जगह मिलेगी.

गोवा के राज्यपाल ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा लेकिन हमें यह भी ध्यान रखना चाहिए कि राम जी के वनवास के दौरान बहुत से लोगों ने उनकी मदद की थी. उन्होंने कहा कि राम मंदिर के निर्माण में यह भी सोचना चाहिए कि सबरी और केवट जैसे लोग जिन्होंने अहम समय में राम की मदद की उन्हें अयोध्या राम मंदिर निर्माण में कहां जगह मिलेगी.

आपको बता दें कि सत्यपाल मलिक गोवा से पहले जम्मू कश्मीर के राज्यपाल थे और अक्टूबर के अंतिम सप्ताह में ही उन्हें गोवा का राज्यपाल नियुक्त किया गया था. गोवा के राज्यपाल का पद ग्रहण करने के बाद उन्होंने कहा था कि मैं जम्मू कश्मीर जैसे राज् से आया हूं जिसे समस्याग्रस्त राज् के तौर पर जाना जाता है लेकिन अब वहां पहले की अपेक्षा हालात काफी बेहतर हैं और मुझे लगता है कि मैं यहां पर शांति पूर्ण माहौल में काम कर सकूंगा.

मंत्री लोग अपनी बॉस को खुश करने के लिए जवाब न दें: राज्यपाल धनखड़

राज्यपाल ने कहा कि हम सब के जीवन में भगवान राम की एक खास जगह और ठीक इसी प्रकार राम जी के जीवन में उन लोगों की भी खास जगह थी जिन्होंने उनकी मदद की इसलिए राम मंदिर निर्माण के दौरान हमें उन लोगों का भी स्थान निश्चित करने की जरूरत है जो भगवान राम के प्रीय थे.