नई दिल्ली| सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को तीन तलाक मामले में आगे की सुनवाई के लिए संविधान पीठ के पास रेफर किया है। अब इस मामले पर पांच जजों की संवैधानिक पीठ सुनवाई करेगी। कोर्ट ने तीन तलाक की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई के लिए 11 मई की तारीख तय की है। मामले में चार दिनों तक लगातार सुनवाई होगी। Also Read - भगोड़े शराब कारोबारी Vijay Mallya को कब लाया जाएगा भारत, क्यों हो रही देर? सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने दी यह जानकारी

कोर्ट में चीफ जस्टिस जगदीश सिंह खेहर ने कहा कि यह गंभीर मामला है। यही वक्त है कि मामले में सुनवाई पूरी की जाए। तीन तलाक मामले में केवल कानूनी पहलुओं पर ही सुनवाई होगी। इसी दौरान दो अन्य मामलों में भी संविधान पीठ सुनवाई करेगी। अदालत सभी पक्षों के एक-एक शब्द पर गौर करेगी।

मामले की सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार और दूसरे पक्षों ने कोर्ट के सामने कुछ सवाल रखे। इस पर कोर्ट ने कहा कि वे 30 मार्च तक लिखित में अपनी बात अटॉर्नी जनरल के पास जमा करा दें।

इससे पहले तीन तलाक मामले में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि तीन तलाक के खिलाफ दाखिल याचिका सुनवाई योग्य नहीं है और मुस्लिम पर्सनल लॉ को संविधान के धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार के तहत प्रोटेक्शन है।