नई दिल्ली: सेक्स सीडी मामले में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेश बघेल को राहत मिली है. सुप्रीम कोर्ट (SUPREME COURT) ने इस मामले में आपराधिक सुनवाई पर रोक लगा दी है. जांच एजेंसी ने अपनी याचिका में मुख्यमंत्री पर गवाहों को धमकाने का आरोप लगाते हुए कथित सेक्स सीडी मामले को छत्तीसगढ़ से बाहर ट्रांसफर करने का अनुरोध किया था.

मां-पत्‍नी संग पहुंचे वोट डालने पहुंचे CM फडणवीस, बोले- सरकार से अपेक्षाएं लाजिमी हैं

सीबीआई (CBI) ने बघेल के खिलाफ सितंबर 2018 मे मामला दर्ज किया था. तब वह छत्तीसगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष थे. उनके खिलाफ शिकायत आई थी कि उन्होंने राज्य के तत्कालीन पीडब्ल्यूडी मंत्री एवं भाजपा नेता राजेश मूणत को फर्जी सेक्स सीडी मामले में कथित तौर पर फंसाने का प्रयास किया था. सीबीआई की ओर से पेश सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि अभियोजन पक्ष के दो गवाहों ने जांच एजेंसी से शिकायत की है कि उन्हें मामले में मुख्यमंत्री के खिलाफ बयान देने पर आरोपियों ने उन्हें धमकाया था.

बघेल के खिलाफ 120बी, 469, 471 आईटी एक्ट 67 ए के तहत मामला दर्ज किया गया. इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी. सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था, हालांकि भूपेश बघेल ने जमानत लेने से इंकार कर दिया था.