नई दिल्ली: राजस्थान के अलवर में हुई ताजा लिंचिंग के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को राजस्थान सरकार के खिलाफ अवमानना याचिकाओं पर 28 अगस्त को सुनवाई करने पर हामी भरी है. तुषार गांधी और कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला की ओर से दायर याचिकाओें में आरोप लगाया गया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद देश में पीट-पीटकर हत्या करने की घटनाएं हो रही हैं. मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की पीठ ने कहा कि याचिकाओं पर सुनवाई 28 अगस्त को की जाएगी.

राजस्थान में गो तस्करी के शक में मॉब लिंचिंग, 28 साल के युवक की मौत

इस पीठ में न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति डी वाय चंद्रचूड़ भी शामिल हैं. पीठ के समक्ष अपना पक्ष रखते हुए गांधी और पूनावाला ने राजस्थान सरकार के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई की मांग की. याचिकाकर्ताओं ने अपील की कि शीर्ष अदालत के आदेश के पालन के लिए अक्षरश: निर्देश जारी किए जाए. पीठ मुख्य मामले के साथ इस याचिका पर 28 अगस्त को सुनवाई करेगी. बता दें राजस्थान के अलवर जिले में 21 जुलाई को गाय तस्करी के संदेह में भीड़ ने हरियाणा के रहने वाले 28 साल के अकबर खान की पीट पीटकर हत्या कर दी थी.

मॉब लिंचिंग रोकने के लिए मोदी सरकार आईपीसी में कर सकती है बदलाव

शीर्ष कोर्ट ने 17 जुलाई को केंद्र से कहा था कि पीट पीटकर हत्या की घटनाओं से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए संसद में नए कानून बनाने पर विचार करे. पीठ ने कहा था कि ”भीड़तंत्र की इन विभत्स गतिविधियों को नई पंरपरा नहीं बनने दिया जा सकता.”

जैसे जैसे पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ेगी, वैसे वैसे मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ती जाएंगी- केंद्रीय मंत्री 

(इनपुट- एजेंसी)