श्रीनगर. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के शोधार्थी से आतंकवादी बने मनन वानी को जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में एक मुठभेड़ में मार गिराया गया है. उसे दो आतंकियों के साथ सीमावर्ती जिले में पकड़ा गया था. प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस और अन्य सुरक्षा बलों ने एक गांव ने घेराबंदी कर उन्हें पकड़ा है.

सुरक्षा बलों को अपने ख़ुफ़िया तंत्र से गांव में मनन वानी समेत दो आतंकवादियों के मौजूद होने की खुफिया सूचना मिली थी. इसके बाद सुरक्षा बलों ने उस स्थान की घेराबंदी कर दी. हालांकि, पाकिस्तान द्वारा की जा रही गोलाबारी के चलते अभियान में रूकावट पैदा हो रही थी. पूरे इलाके की इन्टरनेट सेवाएं फिलहाल स्थगित कर दी गई हैं.

उन्होंने बताया कि पुलिस लगातार घोषणा करके आतंकवादियों से आत्मसमर्पण करने की अपील की थी. अधिकारियों ने बताया कि सुबह करीब नौ बजे गोलीबारी रुक गई जिसके बाद पुलिस ने मुठभेड़ स्थल पर तलाश अभियान शुरू किया लेकिन 15 मिनट बाद फिर से गोलीबारी शुरू होने के कारण सर्च अभियान रोकना पड़ा. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में पीएचडी का शोधार्थी वानी इस साल जनवरी में आतंकवादी संगठन में शामिल हुआ था.