School Kab Khulenge: कोरोना के मामले कम होने के बाद चंदीगढ़ प्रशासन (Chandigarh Me Kab Khulenge School) ने भी स्कूलों को खोलने का फैसला लिया है. ताजा जानकारी के अनुसार, चंडीगढ़ में सातवीं और 8वीं क्लास के स्कूल 9 अगस्त से खोले जाएंगे. हालांकि अपने बच्चों को स्कूलों में भेजने के लिए माता-पिता की सहमति जरूरी होगी. प्रशासन की तरफ से जारी आदेश के अनुसार, ऑनलाइन क्लास को भी फिलहाल जारी रखा जाएगा.Also Read - School Kab Khulenge: इस राज्य में 21 की जगह अब 25 सितंबर तक बंद रहेंगे स्कूल, जानें सरकार का ताजा फैसला

इससे पहले पंजाब में भी सोमवार से सभी कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोल दिया गया. इससे पहले साल के शुरू में प्री-प्राइमरी स्तर की कक्षाओं के लिए कुछ महीनों के लिए स्कूल खोले गए थे. राज्य सरकार ने बीते शनिवार को 2 अगस्त से सभी कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दे दी थी. Also Read - School Kab Khulenge: इस राज्य में 20 सितंबर से खुलेंगे पहली से 5वीं तक के स्कूल, जानें गाइडलाइंस

Also Read - School Kab Khulenge: नए टीका नियमों के बीच 10 लाख विद्यार्थियों के लिए फिर से खुले स्कूल, जानें लेटेस्ट अपडेट

अधिकारियों ने कहा था कि राज्य भर में सभी कक्षाओं के लिए स्कूल फिर से खुल गए. इससे पहले, पंजाब में प्री-प्राइमरी और कक्षा पहली और दूसरी के लिए स्कूल करीब 10 महीने बंद रहने के बाद इस साल फरवरी में फिर से खोले गए थे. पिछले साल मार्च में कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद स्कूलों को बंद कर दिया गया था. दो अगस्त से सभी कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने का निर्णय लेने से पहले, सरकार ने 26 जुलाई से कक्षा 10वीं से 12वीं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दे दी थी.

उधर, पंजाब की मुख्य विपक्षी पार्टी आम आदमी पार्टी (AAP) ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से राज्य के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को फिर से खोलने के फैसले को लेकर व्यक्त की गई चिंताओं पर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की है. विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने राज्य सरकार से पूछा कि ‘डॉक्टरों और शिक्षा विशेषज्ञों की किस रिपोर्ट के आधार पर इतना बड़ा निर्णय लिया गया है.’

चीमा ने कहा कि यह 60.5 लाख बच्चों के जीवन से जुड़ा फैसला है, जो राज्य की कुल आबादी का 20 फीसदी है और पंजाब के भविष्य से भी जुड़ा है. पंजाब के स्कूल शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने रविवार को कहा था कि स्कूलों का समय पहले जैसा ही रहेगा, जो सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे तक होता है. अभिभावकों को अपने बच्चों को स्कूलों में भेजने के लिए लिखित सहमति देनी होगी.

(इनपुट: ANI,भाषा)