School Reopening: लगभग 6 महीने बाद आज देश के कई राज्यों में स्कूल-मदरसे खोल दिए गए हैं. एक बार फिर शिक्षा के केंद्रों में रौनक लौट रही है. इस दौरान सरकारों द्वारा कक्षा 9-12वी तक क कक्षाओं को ही 19 अक्टूबर तक के लिए खोलने की इजाजत दी गई है. इस बीच हमारे पास आज कुछ तस्वीरें आई हैं. इन तस्वीरों में साफ देखा जा सकता है कि कोरोना महामारी ने स्कूल प्रणाली को बदलकर रख दिया है. छात्र-छात्राओं के बीच कक्षा में सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए उचित दूर, स्कूल का सैनिटाइजेशन, स्कूल में प्रवेश पर छात्रों की थर्मल स्कैनिंग इत्यादि की प्रक्रियाएं स्कूल में देखने को मिल रही है. बता दें कि स्कूल जाने को लेकर केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देश के मुताबिक सिर्फ माता पिता की लिखित अनुमति के बाद ही छात्र स्कूल जा सकते हैं. Also Read - Gujarat के Ex-Minister की पोती के इंगेजमेंट में हुआ ऐसा डांस, Video वायरल होने पर अब मांग ली माफी

हालांकि देश के कई राज्यों से सामने आई तस्वीरों में कोरोना महामारी के नियमों का पालन स्कूलों और छात्रों द्वारा किया जा रहा है. बच्चे मास्क पहनकर स्कूलों और मदरसों में पहुंचे, यहां सभी के बीच उचित दूरी बनाकर रखा गया है. लखनऊ के फिरंगी महली ईदगाह में स्थइत मदरसे में आज बच्चे पहुंचे. इस दौरान सभी के हैंड सैनिटाइज करवाए गए और मास्क पहने हुए छात्रों को ही मदरसे में प्रवेश की इजाजत थी, इस कारण सभी छात्र मास्क पहनकर पहुंचे. Also Read - Indian Railways ने शुरू किया zero based timetable: बढ़ जाएगी ट्रेनों की स्पीड, होगा करोड़ों का मुनाफा, जानिए कैसे..

Also Read - Sunny Deol Tests Positive For COVID-19: कोरोना वायरस से संक्रमित हुए सनी देओल

बता दें कि स्कूलों व मदरसों को पूरी तरह सैनिटाइज किया जा रहा. हर उस स्थान को सैनिटाइज किया जा रहा है जहां छात्रों व शिक्षकों की पहुंच संभव है. बता दें कि कोरोना महामारी के दौरान स्कूलों में छात्रों को कई नियमों के पालन करने हैं. यहां छात्रों को आपस में खाना, पेन या कोई भी चीज साझा करने की अनुमति नहीं है.

क्या है दिशानिर्देश, जिसका करना होगा पालन

1- स्कूलों को सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करना होगा. साथ ही स्कूलों को सैनिटाइजेशन की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करना होगा.

2- किसी भी छात्र को स्कूल आने के लिए उसपर दबाव नहीं डाला जाएगा. छात्र अपनी मर्जी से ही स्कूल जाएगा.

3- केवल 50 प्रतिशत बच्चों को स्कूलों में आने की अनुमति होगी. वहीं अन्य 50 प्रतिशत बच्चों के लिए दूसरे दिन क्लास का आयोजन किया जाएगा.

4- सभी स्कूलों में 2 पालियों में कक्षाओं का संचालन किया जाएगा. इसमे पहली पाली में 9वीं और 10वीं के बच्चे और दूसरी पाल में 11वीं और 12वीं के बच्चों को आने की अनुमति होगी.

5- कंटेन्मेंट जोन में रहने वाले शिक्षकों और बच्चों, स्टाफ इत्यादि को स्कूल आने की अनुमति नहीं होगी.

6- स्कूल में प्रवेश और स्कूल से बाहर जाने के समय स्कूल के सभी गेट खोल दिए जाएंगे, ताकि भीड़ न मच सके.

7- स्कूलों में बेंच और टेबल पर केवल एक ही छात्र के बैठने की अनुमित होगी.

8- किसी भी स्टाफ, शिक्षक या छात्र को बुखार या सर्दी-खास के हो या लक्ष्ण हो तो उसे प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें घर भेज दिया जाएगा

9- सभी के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा.

10- स्कूल खोलने के फैसले का अधिकार राज्यों का होगा. राज्य तय करेंगे कि स्कूलों को कब से खोला जाना है.