School Reopening Latest Guidelines: स्कूलों को खोलने को लेकर केंद्र की तरफ से इजाजत के बाद राज्यों ने भी इसे लेकर फैसला करना शुरू कर दिया है. केंद्र सरकार की तरफ से अनलॉक 5 की गाइडलाइंस (Unlock 5 Guidelines) में यह कहा गया है कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेश यह तय कर सकते हैं कि वे 15 अक्टूबर के बाद स्कूलों, कॉलेजों और कोचिंग संस्थानों को फिर से खोलना चाहते हैं या नहीं. अब शिक्षा मंत्रालय ने 15 अक्टूबर से चरणबद्ध तरीके से स्कूलों को खोलने के लिए कुछ जरूरी दिशा-निर्देश (School Reopening Guidelines) भी जारी किए हैं. शिक्षा मंत्री डॉक्टर रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने ट्वीट कर कहा, ‘राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को स्वास्थ्य एवं सुरक्षा सावधानियों के आधार पर खुद का मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) तैयार करना होगा.Also Read - School Reopen News: इस राज्य में सोमवार से खुलेंगे पहली से 8वीं क्लास के स्कूल, गाइडलाइंस जारी

Also Read - Rajasthan School News: राजस्थान की गहलोत सरकार ने स्कूलों के लिए जारी किया यह जरूरी दिशा निर्देश, जानें पूरी गाइडलाइंस

शिक्षा मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि वे क्रमबद्ध तरीके से ऐसी व्यवस्था करें कि छात्र सोशल डिस्टेंसिंग के साथ स्कूल आ पाएं. शिक्षा मंत्री ने कहा कि 5 अक्टूबर को दी गई आधिकारिक जानकारी के अनुसार स्कूलों के फिर से खोले जाने के कम से कम दो से तीन सप्ताह के भीतर कोई भी एसेसमेंट टेस्ट नहीं लिया जाएगा, अटेंडेंस की नीतियो में लचीलापन लाना होगा और ऑनलाइन लर्निंग जारी रहेगी, जिसे प्रोत्साहित किया जाता रहेगा. Also Read - Primary Schools Reopen In Gujarat: गुजरात में कल से खुल रहे हैं प्राइमरी स्कूल, शिक्षामंत्री ने कही ये बात...

मंत्रालय की तरफ से जारी दिशा निर्देशों के अनुसार, ‘स्कूलों को सभी क्षेत्रों, फर्नीचर, उपकरण, स्टेशनरी, पानी के टैंकों, रसोई घरों, कैन्टीन, शौचालयों, प्रयोगशालाओं, पुस्तकालयों की पूरी तरह सफाई करने और उन्हें संक्रमणमुक्त करने की व्यवस्था करनी चाहिए तथा स्कूल के भीतरी परिसर में हवा का प्रवाह सुनिश्चित करना चाहिए. मंत्रालय ने सिफारिश की है कि स्कूलों को उपस्थिति और अस्वस्थता अवकाश संबंधी नीतियों में लचीलापन लाना चाहिए.’

उसने कहा, ‘छात्र अपने माता-पिता की लिखित सहमति से ही स्कूल आ सकते हैं. छात्र चाहें तो स्कूल आने के बजाय ऑनलाइन कक्षाएं ही करते रह सकते हैं.’ इसमें कहा गया, ‘स्कूलों के पुन: खुलने के दो से तीन सप्ताह तक कोई मूल्यांकन नहीं किया जाएगा और आईसीटी तथा ऑनलाइन प्रशिक्षण को प्रोत्साहित किया जाता रहेगा.’

बता दें कि देशभर में कोरोना वायरस महामारी के कारण विश्वविद्यालयों और स्कूलों को 16 मार्च को बंद करने का आदेश दिया गया था. केंद्र सरकार ने 25 मार्च से लॉकडाउन लगा दिया था. अनलॉक के ताजा दिशानिर्देशों के अनुसार कन्टेन्मेंट जोन के बाहर स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान 15 अक्टूबर के बाद पुन: खुल सकते हैं. इस बारे में निर्णय राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों पर छोड़ दिया गया है. दिशा निर्देशों में कहा गया, ‘स्कूलों को लॉकडाउन के दौरान घरों से ही चल रही पढ़ाई से औपचारिक स्कूली पढ़ाई तक सुगम बदलाव सुनिश्चित करना चाहिए.’

स्कूल खोलने से जुड़ी मुख्य गाइडलाइंस (School Reopening Full Guidelines)

– स्कूल खुलने के तीन सप्ताह तक एसेसमेंट टेस्ट नहीं लेना होगा.-
-स्कूलों में एनसीईआरटी द्वारा तैयार वैकल्पिक एकेडेमिक कैलेंडर को लागू किया जा सकता है.
– स्कूलों में मिड-डे मील तैयार करते और परोसे जाते समय सावधानी रखनी होगी.
-स्कूल परिसर में किचन, कैंटीन, वाशरूम, लैब, लाइब्रेरी, आदि समेत सभी स्थानों पर साफ-सफाई और कीटाणुरहित करते रहने की व्यवस्था करनी होगी.
-कक्षाओं में बैठने के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा. कार्यक्रम और आयोजनों से बचना होगा. स्कूल आने और जाने के टाइम-टेबल बनाना होगा और उसका पालन करवाना होगा.
-सभी छात्र-छात्राएं और स्टाफ फेस कवर या मास्क लगाकर ही स्कूल आएंगे और पूरे समय के दौरान इसे पहने रहेंगे.
– अटेंडेंस की नीतियो में लचीलापन लाना होगा