गुवाहाटी: कोरोना वायरस के कारण पूरे देश में पिछले सात महीने तक पूरी तरह से स्कूल कॉलेज बंद रहे. अब अनलॉक 6 में कई राज्य धीरे धीरे स्कूल कॉलेज को दोबारा खोल रहे हैं. इसी क्रम में असम ने भी सोमवार से स्कूल कॉलेज खोल दिए. हालांकि यहां अभी प्राथमिक विद्यालयों को छोड़कर सभी शिक्षण संस्थानों को कोविड-19 नियमों का पालन सुनिश्चित करते हुए सोमवार को फिर से खोला गया. ये संस्थान महामारी के कारण सात महीने से बंद थे. अधिकारियों ने यह जानकारी दी.Also Read - Omicron को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के सलाहकार फाउची ने कहा, चिंता की बात नहीं...

उन्होंने बताया कि कक्षा पांच तक के छात्रों के लिए कक्षाएं बंद रहीं, लेकिन कक्षा छह से छात्रों के लिए फिर से कक्षाओं की शुरूआत हुई. राज्य में कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज, विश्वविद्यालय, पॉलिटेक्निक, निजी शिक्षण संस्थान, सरकारी और निजी प्रशिक्षण और कोचिंग संस्थान सरकारी आदेश के अनुसार फिर से खुल गए. Also Read - Omicron के खतरे के बीच NTAGI की बैठक आज, बच्चों को टीका और Booster Dose पर होगा फैसला!

संस्थानों के प्रमुखों के अनुसार उन्होंने सैनिटाइजेशन पर मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन किया. छात्रों, शिक्षकों और गैर-शिक्षक स्टॉफ को मास्क पहने हुए और सामाजिक दूरी बनाये रखने संबंधी नियमों का पालन करते हुए देखा गया. Also Read - Jawahar Navodaya Vidyalaya: नवोदय विद्यालय के 59 छात्र समेत 69 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित

छात्रों की उपस्थिति को अनिवार्य नहीं बनाया गया है और उन्हें ऑनलाइन कक्षाओं का चयन करने की स्वतंत्रता दी गई है. हालांकि जो छात्र कक्षाओं में आना चाहते है उन्हें एसओपी के अनुसार अपने अभिभावकों से अनापत्ति प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने की जरूरत होगी.

राज्य के शिक्षा और स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने पत्रकारों से कहा, ‘‘असम के लिए आज एक चुनौतीपूर्ण दिन है. स्कूलों और कॉलेजों को आज से फिर से खोल दिया गया है. मुझे स्कूलों को फिर से खोलने के इस फैसले पर दो राय के बारे में पता है.’’ सरमा ने चेताया कि यदि स्कूलों और कॉलेजों ने एसओपी का पालन नहीं किया तो सरकार का उद्देश्य असफल हो जायेगा.