Schools Reopening News:सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के रहने वाले कक्षा 12वीं के छात्र की उस याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है जिसमें उसने देश भर में स्कूलों को फिर से खोलने की गुहार लगाई थी. छात्र ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी जिसमें उनसे कहा था कि देश भर के सभी स्कूलों को अब खोल देना चाहिए. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से इनकार करते हुए टिप्पणी की है और छात्र से कहा है कि हम यह नहीं कहते कि याचिका प्रचार के लिए दाखिल हुई है. लेकिन बेहतर हो कि आप अपनी पढ़ाई पर ध्यान दें.Also Read - सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश ने कहा- अदालतों पर भरोसे का संकट, लोगों को न्याय मिलना चाहिए

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सभी राज्य की सरकारें अपने प्रदेश की परिस्थितियों के अनुसार निर्णय ले रही हैं और जहां कोरोना के मामले कम हैं वहां के स्कूल खोले जा रहे हैं. Also Read - Noida में 10 साल से अधिक पुराने डीजल और 15 साल से ज्‍यादा पुराने पेट्रोल वाहन होंगे जब्त, ये प्रशासन का प्‍लान

Also Read - सुप्रीम कोर्ट पहुंचा 'कोरोना माता मंदिर' का मामला, याचिकाकर्ता पर लगा जुर्माना

सोमवार को सुनवाई के दौरान कोरोना के मद्देनजर स्कूलों को चरणबद्ध तरीके से खोलने की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने विचार करने से इनकार कर दिया और कहा कि यह काम राज्यों का है हमें इसमें दखल नहीं देना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वह ऑफलाइन क्लास के लिए स्कूलों को फिर से खोलने के लिए राज्यों को निर्देश नहीं दे सकता है. कोर्ट ने कहा, हम नहीं जानते कि कोरोना का खतरा कहां अधिक है या किन जिले में संक्रमित लोगों की संख्या अधिक है. ये काम राज्य की सरकारें देख रही हैं और अपने राज्य में वो अपना निर्णय ले रही हैं. कोर्ट ने कहा, बेशक बच्चों को वापस स्कूल जाने की आवश्यकता है, लेकिन यह राज्यों द्वारा तय किया जाना चाहिए कि कहां स्कूल खोले जाएंगे या कहां नहीं. इसमें हम दखल नहीं दे सकते.