नई दिल्ली: विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान से रविवार को सुरक्षा एजेंसियों ने डीब्रीफिंग (सवाल-जवाब) की. वहीं यहां एक सैन्य अस्पताल में दूसरे दिन भी उनकी मेडिकल जांच की जा रही है. एक सैन्य अधिकारी ने बताया, यह सुनिश्चित करने की कोशिशें की जा रही हैं कि वह जल्द ही कॉकपिट में लौट आएं. अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षा एजेंसियों ने विंग कमांडर से डीब्रीफिंग की और यह अगले कुछ दिनों तक जारी रहेगी. उनके कई मेडिकल परीक्षण भी किए गए. वर्धमान को अटारी-बाघा सीमा से पाकिस्तान से भारत वापस लाने के बाद शुक्रवार देर रात दिल्ली लाया गया था, जहां भारतीय वायु सेना के कई वरिष्ठ पायलटों ने उनसे मुलाकात की. बता दें कि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और वायु सेना प्रमुख बीएस धनोआ ने शनिवार को अलग-अलग वर्धमान से मुलाकात की. इस दौरान विंग कमांडर ने उन्हें बताया कि पाकिस्तान ने उन्हें कैद में रखने के दौरान मानसिक रूप से प्रताड़ित किया. Also Read - IND vs AUS 4th Test Live Streaming: जानें कब और कहां देखें भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच चौथे टेस्ट का LIVE टेलीकास्ट और ऑनलाइन स्ट्रीमिंग

Also Read - 83 तेजस बढ़ाएंगे भारत की ताकत, Indian Air Force के इस फाइटर जेट की 12 व‍िशेषताएं जानें यहां

अमेठी में बनेगी दुनिया की सबसे आधुनिक रायफल में से एक AK-203, पीएम मोदी ने किया एलान Also Read - पाक से राजस्थान आए करीब 700 लोग 'लापता', केंद्र ने राज्य सरकार को दिए तलाशने के निर्देश

भारतीय हवाई क्षेत्र का उल्लंघन करने वाले पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों को खदेड़ने के दौरान हवा में हुई लड़ाई के दौरान उनका मिग 21 बाइसन गिर गया था. इसके बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें पकड़ लिया था. इससे पहले वर्धमान ने पाकिस्तान के एफ-16 विमान को मार गिराया था.

IAF विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को पहला भगवान महावीर अहिंसा पुरस्कार

विंग कमांडर शुक्रवार रात भारतीय वायु सेना की उड़ान से रात 11 बजकर करीब 45 मिनट पर राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे. वह अटारी-वाघा सीमा से भारत में आने के करीब ढाई घंटे बाद यहां पहुंचे. उन्हें पहले एयर फोर्स सेंट्रल मेडिकल एस्टैबलिशमेंट (एएफसीएमई) ले जाया गया. बाद में उन्हें आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल ले जाया गया.

‘गजवा-ए-हिंद’ का हिस्सा हैं आतंकी हमले, भारत-पाक को दो बार युद्ध की कगार पर लाया जैश-ए-मोहम्मद

पाकिस्तान में पकड़े जाने के बाद वर्धमान ने मुश्किल परिस्थितियों से निपटने में साहस का परिचय दिया, जिसके लिए नेता, कूटनीतिक मामलों के विशेषज्ञ, पूर्व सैन्य कर्मी, मशहूर हस्तियां और आम जनता उनकी प्रशंसा कर रही है.