कानूनी विशेषज्ञों ने उत्तर प्रदेश पुलिस की इस थ्योरी को खारिज कर दिया है कि हाथरस की पीड़िता के शरीर पर शुक्राणु नहीं मिलने का मतलब है कि उसके साथ बलात्कार नहीं हुआ. वरिष्ठ वकील रेबेका जॉन और विकास पाहवा ने कहा कि कथित सामूहिक बलात्कार की पीड़िता के शरीर पर शुक्राणु की अनुपस्थिति, जैसा कि पुलिस ने फोरेंसिक रिपोर्ट में दावा किया है, का आरोपियों पर इस अपराध के लिए अभियोजन चलाने पर कोई असर नहीं होगा क्योंकि मरते समय उसने जो बयान दिया, उस पर अविश्वास नहीं किया जा सकता. Also Read - Hathras case Latest Updates: कहां तक पहुंची हाथरस मामले की सीबीआई जांच? अब आरोपियों की बारी

जॉन ने कहा, ‘‘(सीमन नहीं पाया गया) तो क्या? बलात्कार के अपराध के लिए उसकी मौजूदगी जरूरी नहीं. और तो और, मृत्यु पूर्व दिया गया बयान है.’’ Also Read - बुलगड़ी गांव छोड़ना चाहता है हाथरस पीड़िता का परिवार, घर पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात

उन्होंने कहा, ‘‘मृत्यु पूर्व दिये गये बयान को खारिज करने के लिए कुछ असाधारण सबूत की जरूरत होगी.’’ Also Read - Hathras Case Update: यूपी की योगी सरकार का सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध, CBI जांच की करें निगरानी

पाहवा की भी ऐसी ही राय है. उन्होंने कहा, ‘‘ शरीर को धोया जा सकता है, साफ किया जा सकता है. यह इस पर निर्भर करता है. यह भी देखना होगा कि अपराध और मेडिकल परीक्षण में कितने समय का फासला है? यदि बलात्कार के तुरंत बाद मेडिकल परीक्षण होता है तो शुक्राणु मिलते हैं, अन्यथा नहीं.’’