नई दिल्ली: एक समय में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ विवाद में शामिल कांग्रेस नेता एवं वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में आप सरकार का प्रतिनिधित्व किया. उन्होंने दिल्ली में सेवाओं पर नियंत्रण एवं अन्य अधिकारों को लेकर आप सरकार की ओर से दलीलें दीं. कपिल सिब्बल के पुत्र एवं वरिष्ठ वकील अमित सिब्बल ने केजरीवाल एवं अन्य आप नेताओं के खिलाफ मानहानि का मुकदमा डाला था. किंतु हाल में आप नेताओं के माफी मांगने के बाद उन्होंने यह मामला वापस ले लिया.

कपिल सिब्बल ने न्यायमूर्ति ए के सीकरी एवं न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ के समक्ष आप सरकार की ओर से दलील देने की अगुवाई की. यह मामला इसलिए महत्व रखता है कि क्योंकि आप सरकार एवं केन्द्र के बीच दिल्ली विधानसभा के विधायी मामलों को लेकर आपस में टकराव चल रहा है. गौरतलब है कि मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मानहानि मामले में हाल ही में कपिल सिब्बल से माफी मांगी थी. केजरीवाल की माफी के बाद सिब्बल ने केस वापस ले लिया था. उस समय केजरीवाल ने कहा था हम सभी राजनीति में हैं. कभी मेरी किसी टिप्पणी से आपको दुख पहुंचा हो तो मैं माफी मांगता हूं.

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पीएम मोदी पर निशाना साधते रहे हैं. भीड़ द्वारा हत्या किए जाने की हालिया घटनाओं को लेकर सरकार पर निशाना साधा था. उन्होंने सवाल किया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले चार वर्षों में घृणा अपराधों पर ‘मन की बात’ क्यों नहीं की. देश के कई हिस्सों में बच्चा चोरी के शक में पीट पीटकर हत्या के मामले बढ़ने के बाद कांग्रेस ने बीजेपी और पीएम पर हमला तेज कर दिया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने देश के कुछ स्थानों पर भीड़ द्वारा हत्या किए जाने की हालिया घटनाओं को लेकर सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले चार वर्षों में घृणा अपराधों पर ‘मन की बात’ क्यों नहीं की. देश के कई हिस्सों में बच्चा चोरी के शक में पीट पीटकर हत्या के मामले बढ़ने के बाद कांग्रेस ने बीजेपी और पीएम पर हमला तेज कर दिया है.